स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Narendra Modi: सीटी वाले गांव ने प्रधानमंत्री के लिए तैयार किया आमंत्रण स्वर

Yogendra Yogi

Publish: Aug 16, 2019 18:04 PM | Updated: Aug 16, 2019 18:04 PM

Guwahati

Narendra Modi: बच्चों के नामों को सुरों से साधने की अनूठी विरासत के बाद कोंगथांग गांव फिर सुर्खिंयों में है। इस बार प्रधानमंत्री को आमंत्रित करने के लिए एक सुर सृजन किया।

Narendra Modi: गुवाहाटी ( राजीव कुमार ), बच्चों के नामों को सुरों से साधने की अपनी अनूठी विरासत ( Unique Heritage ) के बाद मेघालय का कोंगथांग गांव ( Kongthang Village ) फिर एक बार सुर्खिंयों ( Lime Light ) में है। इस बार प्रधानमंत्री ( Prime Minister ) नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi ) को आमंत्रित ( Invitation ) करने के लिए एक सुर का सृजन ( Tone creation ) किया गया है। भाजपा के राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा के दौरे के दौरान यह सुर सृजित किया गया है। स्थानीय गांववालों ने प्रधानमंत्री के आमंत्रण के लिए तैयार किए गए सुर को सांसद सिन्हा के हाथों सौंपा ताकि इसे प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजा जा सके।

मां स्वर में गाकर बुलाती है
मेघालय की राजधानी शिलांग से 56 किमी दूर है यह कोंगथांग गांव। इसे सीटी या गानेवाले गांव ( Villag of Whistle ) के रुप में भी जाना जाता है। अति प्राचीन समय से इस गांव की माताएं अपने बच्चों के लिए अनूठा सुर कंपोज ( Compose of tone ) करती है जिस स्थानीय भाषा में जिंगरवई आइयावेबेई कहा जाता है। हर बच्चे के लिए अलग स्वर होता है। माताएं जब स्वर में गाती हैं, तब बच्चे को पता चल जाता है कि उसकी मां उसे आवाज दे रही है।

यह गांव ईस्ट खासी हिल्स जिले के सोहरा जाने के दौरान खाट-अर-शोनंग इलाके में पड़ता है। इसमें 125 घर हैं और इसकी गांव की कुल जनसंख्या 650 है। गौरतलब है कि सांसद सिन्हा ने राज्यसभा में इस गांव की अनूठी परम्परा का जिक्र करते हुए कोंगथांग गांव को यूनेस्को की इनटेनजिबल कल्चरल हैरिटेज सूची में शामिल करवाने की मांग की थी।