स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आखिरकार विधायक हजारिका ने लादेन को किया वश में, 5 को मार चुका है

Yogendra Yogi

Publish: Nov 11, 2019 19:13 PM | Updated: Nov 11, 2019 19:13 PM

Guwahati

आखिरकार आज लादेन वश में आ ही गया। सत्तारुढ़ भाजपा के सतिया के विधायक पदï्म हजारिका के नेतृत्व में चले अभियान में जंगली हाथी तथा आतंक का पर्याय बन चुके लादेन को ट्रेंकुलाइज किया गया।

 

 

गुवाहाटी(राजीव कुमार): आखिरकार आज लादेन वश में आ ही गया। सत्तारुढ़ भाजपा के सतिया के विधायक पदï्म हजारिका के नेतृत्व में चले अभियान में जंगली हाथी तथा आतंक का पर्याय बन चुके लादेन को ट्रेंकुलाइज किया गया। मालूम हो कि ग्वालपाड़ा जिले के जंगलों में पिछले कुछ समय से लादेन ने कहर बरपा रखा था। पिछले महीने के अंत में उसने 24 घंटे में पांच लोगों को मार डाला था। उसके बाद मुख्यमंत्री सवार्नंद सोनोवाल ने हाथी को ट्रेंकुलाइज करने का निर्देश दिए। लेकिन लादेन जंगलों में छिप गया।

ड्रोन से लगाया था पता
ड्रोन से उसका पता लगाया गया। वन विभाग ने लादेन को वश में करने के लिए अनुभवी पदïï्म हजारिका से अनुरोध किया। हजारिका अपने प्रिय पालतू हाथी रामू के साथ ग्वालपाड़ा के रंगजुली में 8 नवंबर को पहुंचे। उन्होंने पिछले दो दिनों तक आसपास के जंगलों को निरीक्षण करने के साथ ही लादने को वश में करने के सारे इंतजामात किए। रामू की मदद के लिए वन विभाग ने मानस राष्ट्रीय उद्यान से यशोधा,सरस्वती और राजकुमारी नामक तीन कुनकी(प्रशिक्षत) हाथियों को ला कर रखा।

टें्रकुलाइज कर किया काबू में
आज सुबह हजारिका अपने पिता की शॉट गन,अपनी रायफल और अन्य सामानों के साथ एक हफ्ते का राशन लेकर जंगल में लादेन के वश के लिए पहुंचे। आज पहले ही दिन उन्हें सफलता हाथ लगी। पहले कुनकी हाथियों के जरिए उसे वश में करने के लिए पहला ट्रेंकुलाइज किया गया। लेकिन वे हमले के लिए आया तो दूसरी बार उसे ट्रेंकुलाइज किया गया। तब जाकर वह धीरे-धीरे बैठ गया। उसके पैर पटसन की रस्सी से बांधे गए।

पहले ही दिन मिली सफलता
पहले ही दिन इस अभियान की सफलता पर हजारिका ने कहा कि हम पहले भी इस तरह का अभियान चला चुके हैं। लेकिन एक हफ्ते का निकलकर सोचने के बाद एक ही दिन में सफलता हाथ लगी। अब हाथी को थोड़ा ठीक होने देंगे फिर वन विभाग के अधिकारियों से मिलकर इस पर आगे क्या किया जाए इसके बारे में फैसला करेंगे। कहा यह जा रहा है कि इसे लामडिंग के घने जंगलों में छोड़ दिया जाएगा।

[MORE_ADVERTISE1]