स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

CISF जवान ने समाज सेवा के लिए खोजा अनोखा तरीका, यूं बना गरीबों का मसीहा

Prateek Saini

Publish: Nov 16, 2019 19:29 PM | Updated: Nov 16, 2019 19:32 PM

Guwahati

Northeast India News: CISF जवान की इस पहल की चारों ओर प्रशंसा हो रही है...

(गुवाहाटी,राजीव कुमार): अपने लिए तो सभी जीते है लेकिन असल में जीवन वो है जो दूसरों के काम आए। केंद्रीय औद्य़ोगिक सुरक्षा बल (CISF) में तैनात बिराज हजारिका ने भी गरीबों की मदद करते हुए जीवन जीने की ठान ली है। हजारिका ने रोटी और कपड़ा बैंक खोलकर जरूरतमंदों तक इन्हें पहुंचाना शुरू किया है। उनकी इस पहल की चारों ओर प्रशंसा हो रही है।


मूलत: असम के दरंग जिले के दलगांव निवासी बिराज हजारिका वर्तमान में शिवसागर जिले में ओएनजीसी में नियुक्त है। उसने नाजिरा में रोटी और कपड़ा बैंक खोला है। उनका कहना है कि पूर्वोत्तर में पहली बार रोटी और कपड़ा बैंक खोला गया है। इसका उद्देश्य गरीबों तक नि:शुल्क खाद्य पदार्थ और कपड़ा प्रदान करना है।

यह भी पढ़ें: असम: इन विशेष शर्तों पर रिहा होंगे डिटेंशन कैंपों में रह रहे विदेशी घोषित 57 लोग

 

हर जिले में खुलेगी रोटी—कपड़ा बैंक

 

[MORE_ADVERTISE1]CISF जवान ने समाज सेवा के लिए खोजा अनोखा तरीका, यूं बना गरीबों का मसीहा[MORE_ADVERTISE2]

बिराज ने कहा कि असम के प्रत्येक जिले में इस तरह की बैंक खोली जाएगी। यह एक नि:शुल्क सेवा है। बैंक का स्थाई कार्यालय नाजिरा होगा और वाहन से घूम-घूमकर आस-पास के इलाकों में मदद पहुंचाई जाएगी। बिराज ने बताया कि फिलहाल वह अपने वेतन से सामान खरीद रहे है। लेकिन काफी लोगों ने उन्हें मदद का आश्वासन दिया है।


गरीबी दूर करने की ठानी...

सुरक्षाबल में तैनात हजारिका के दिल में सेवा का भी बड़ा जज्बा है। अपने फेसबुक अकाउंट पर उन्होंने लिखा कि मेरा जीवन गरीबों के लिए, जीना मरना देश के लिए है। मैं अपने देश से गरीबी दूर करूंगा।

 

यह भी बढ़ें: बड़े आतंकी संगठनों से जल्द शांति समझौता करेगा केंद्र, प्रमुख वार्ताकार ने कही यह बात

 

शुरुआत से ही काम है जारी...

बिराज ने बताया कि जब उसे अपनी पहली नियुक्ति आगरा के ताजमहल में मिली तो उसने वहां के जरुरतमंद लोगों के बीच खाना बांटा। धीरे-धीरे मैं नौकरी के सिलसिले में जहां भी गया यह मेरे जीवन का हिस्सा बन गया। सातवीं रिजर्व बटालियन में रहते हुए जब जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ा में तैनाता था तो गरीब लोग मुझसे इस तरह के कार्यों के चलते बेहद प्यार करते थे। मालूम हो कि वर्ष 2010 में उसने सीआईएसएफ की नौकरी ज्वाइन की थी। मार्च 2018 में उसका तबादला हुआ और वह असम आ गया। अब रोटी कपड़ा बैंक खोलकर वह काम के साथ ही समाज सेवा में भी जुट गए है।

 

असम की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: यूं भारत में लाया जा रहा है करोड़ों का अवैध सोना, म्यांमार से जुड़े है तस्करी के तार

[MORE_ADVERTISE3]