स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

YouTube से सीखकर पाया बड़ा मुकाम, जिमनास्टिक में असम को दिलाया Bronze Medal

Prateek Saini

Publish: Jan 12, 2020 18:32 PM | Updated: Jan 12, 2020 18:32 PM

Guwahati

Khelo India Youth Games 2020: तेजी से आगे बढ़ती इस दुनिया में आप किसी के भरोसे नहीं बैठे रह सकते, (Upasa Talukdar) उपासा (Sports News) ने भी ऐसा ही (Latest Sports News In Hindi) किया और अपने सपनों (Social Media Positive Use) को सच (Motivational Story) करने के लिए (Gymnastics Techniques) उन्होंने...

 

 

(गुवाहाटी,राजीव कुमार): ''जहाँ चाह है वहाँ राह है'', असम की 12 वर्षीय उपासा तालुकदार ने यह साबित कर दिखाया। यू-टयूब से वीडियो देखकर जिमनास्टिक का प्रशिक्षण लेने वाली उपासा ने खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2020 में कांस्य पदक हासिल किया हैं।


यह भी पढ़ें: गंदा काम कराकर बनाया नौकरानी का VIDEO, फिर शुरू हुआ घिनौना खेल

 

यह जीत हासिल करके उपासा ने राज्य की व्यवस्था को भी आइना दिखाया है। असम में जिमनस्टिक प्रशिक्षण की सुविधा नहीं है, प्रशिक्षक नहीं है, ढांचागत सुविधाएं नहीं है। इसके बाद भी सबको हैरत में डालते हुए उपासा ने असम को सफलता दिलाई। सत्रह साल से कम आयु वर्ग की रिडमिक जिमनास्टिक प्रतियोगिता में अपने बेहतर प्रदर्शन से कांस्य का पदक हासिल किया है। पूर्वोत्तर का एक भी खिलाड़ी इसमें हिस्सा नहीं ले सका है। असम को 1992 में दीपान्विता दास ने जिमनास्टिक में राष्ट्रीय स्तर पर सफलता दिलाई थी। 28 साल के लंबे इंतजार के बाद उपासा ने सफलता दिलाई है।

 

यह भी पढ़ें: प्रसव पीड़ा से तड़प उठी महिला, मसीहा बनकर आएं मजदूर, यूं की अस्पताल पहुंचने में मदद

 

यूं जागी लगन...

दूरदर्शन में जिमनास्टिक को देखते-देखते उपासा को इससे लगाव हो गया था। गुवाहाटी के उलूबाड़ी के व्यवसायी निकुंज तालुकदार और डाक्टर मां शेवाली डेका तालुकदार की संतान उपासा के इस लगाव की बात माता-पिता को बचपन में ही पता चल गई थी। घर पर ही वह एक-दो जिमनास्टिक के खेल खेलती। तभी एक जिमनास्ट की नजर उपासा पर पड़ी। उन्होंने उपासा को देखकर जिमनास्टिक में हाथ आजमाने की सलाह दी।

 

यह भी पढ़ें: नशा छुड़ाने के लिए काम आया आध्यात्मिक तरीका, गांव में अनूठी पहल

 

कोई कोच नहीं...

जब उपासा की उम्र नौ साल थी तब माता-पिता जिमनास्टिक के प्रशिक्षण के लिए ले गए। लेकिन रिडमिक जिमनास्टिक का प्रशिक्षक नहीं है। तब इन लोगों ने यू-ट्यूब का सहारा लिया। रिडमिक जिमनास्टिक बेहद कठिन है। उने बेहद मुश्किल का सामना करना पड़ा। सीबीएसई ने राष्ट्रीय स्तर पर रिडमिक जिमनास्टिक प्रतियोगिता आयोजित की तो उपासा को दो स्वर्ण और एक रजत पदक मिला। तभी से माता-पिता का हौसला बढ़ा। माता-पिता का कहना है कि सरकार को राज्य में जिमनास्टिक के लिए पर्याप्त ढांचागत इंतजाम करना चाहिए।

असम की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: इनकी कहानी भी है 'छपाक' जैसी, फिल्म देखने के बाद बयां किया अपना संघर्ष

[MORE_ADVERTISE1]