स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हाथ में आते ही चल बसा 'लादेन', जब तक जिंदा था ले रहा था जान

Prateek Saini

Publish: Nov 17, 2019 16:56 PM | Updated: Nov 17, 2019 16:56 PM

Guwahati

'लादेन' नाम से ही इस हाथी (Wild Elephant Laden Died) का आतंक जाहिर होता है, जब तक यह जिंदा (Wild Elephant) था पांच लोगों की जान ले चुका था...

(गुवाहाटी,राजीव कुमार): असम में वश कर पकड़े गए लादेन यानि बाद में बने कृष्ण की रविवार सुबह मौत हो गई। उरांग राष्ट्रीय उद्यान के हाथी प्रशिक्षण केंद्र में उसने सुबह 6.30 बजे दम तोड़ दिया। राज्य के ग्वालपाड़ा जिले में पांच लोगों की हत्या के बाद मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने 29 अक्टूबर को लादेन को ट्रेंकुलाइज करने का निर्देश दिया था।

 

यह भी पढ़ें: नेपाल घूमने गए दोस्त यूं फंसे पुलिस के चंगुल में, लाखों का जुर्माना भरकर मिली रिहाई

वन विभाग ने लादेन की स्थिति ड्रोन से पता की और लादेन को वश में करने का जिम्मा सतिया के विधायक पद्म हजारिका को सौंपा। हजारिका को पहले ही दिन यानि 11 नवंबर को लादेन को वश करने में सफलता हासिल की। उसे दो बार ट्रेंकुलाइज कर वश में किया गया। बाद में उसे दूसरे दिन उरांग राष्ट्रीय उद्यान ले जाया गया। लादेन को पकड़ने के बाद हजारिका ने उसका नाम कृष्ण रखा था। उन्होंने कहा था कि कृष्ण वन विभाग की संपदा होगा। जंगली हाथियों से लोगों की रक्षा करेगा। उरांग वे कृष्ण को देखने गए थे। पांच दिन उरांग में अच्छी तरह रहने के बाद कृष्ण की रविवार को मृत्यु हो गई।

 

यह भी पढ़ें: यूं भारत में लाया जा रहा है करोड़ों का अवैध सोना, म्यांमार से जुड़े है तस्करी के तार


जानकारों का कहना है कि दो बार ट्रेंकुलाइज करने से बेहोशी की दवा अधिक मात्रा में उसके शरीर में गई। इसके चलते उसकी मौत हो गई। राज्य के वन मंत्री परिमल शुक्ल वैद्य ने कृष्ण की मौत पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि हार्टअटैक के चलते कृष्ण की मौत हुई है। ट्रेंकुलाइज करने के दौरान दवा की मात्रा अधिक होने के कारण मौत हो सकती है। पूरे मामले की जांच की जाएगी। विधायक हजारिका भी जांच के दायरे में आएंगे। मालूम हो कि लादेन को पकड़ने पर मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने विधायक हजारिका की प्रशंसा की थी। हजारिका के हाथी पकड़ने के अभियान के बाद सोशल मीडिया पर हजारिका को वन मंत्री बनाए जाने की मांग उठने लगी थी। लेकिन अब उनके खिलाफ जांच की मांग की जा रही है।


असम की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: CISF जवान ने समाज सेवा के लिए खोजा अनोखा तरीका, यूं बना गरीबों का मसीहा

[MORE_ADVERTISE1]