स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

काजीरंगा नेशनल पार्क में बाढ़ से मरने वाले जीवों की संख्या 51 हुई

Yogendra Yogi

Publish: Jul 20, 2019 18:57 PM | Updated: Jul 20, 2019 18:57 PM

Guwahati

Assam Floods: काजीरंगा नेशनल पार्क ( Kaziranga National Park ) में एक सींग वाले दो गैंडों के अवशेष मिले हैं। पार्क में घुसे बाढ़ के पानी से कुल पांच गैंडों की मौत हो चुकी है।

गुवहाटी: काजीरंगा नेशनल पार्क ( Kaziranga National Park ) में बाढ़ ( Flood ) से मरने वाले वन्यजीवों ( Wild Life ) की संख्या बढ़कर 51 हो गई है। एक सींग वाले दो गैंडों ( One Horned Rhino ) के अवशेष मिले हैं। पार्क में घुसे बाढ़ के पानी से कुल पांच गैंडों की मौत हो चुकी है। आठ हॉग हिरण डूबने से मरें हैं, जबकि तीन की मृत्यु वाहनों की चपेट में आने से हुई है। चार हिरणों की मृत्यु वाइल्ड लाइफ सेंटर पर उपचार के दौरान हो गई। दो सांभर और दो जंगली भालू के अवेशष भी मिले हैं।

57 वन्यजीवों की जान बचाई गई

वाइल्ड लाइफ टीम के प्रयासों से 57 वन्यजीवों की जान बचाई जा चुकी है। इनमें 49 हॉग हिरण, दो गैंडे के शिशु, एक हाथी का बच्चा, एक सांभर और तीन अन्य जानवर शामिल हैं। पार्क में अभी भी तीन फुट पानी भरा हुआ है। बड़ी संख्या में वन्यजीवों ने कार्बी एंगलोंग की पहाड़ियों पर शरण ले रखी है। बड़ी संख्या में वन्यजीवों ने पिछले दो वर्षों के दौरान बनाए 33 हाईलैंड में पनाह ले रखी है। वन विभाग ने वर्ष 2017 में भीषण बाढ़ के दौरान वन्यजीवों की मौत के बाद हाईलैंड बनाए। दो वर्ष पहले बाढ़ से करीब वन्यजीवों की अकाल मौत हो गई थी।

वर्ष 2017 में 31 गैंडों की मृत्यु हुई थी

मृतक वन्यजीवों में एक सींग वाले गैंडों की संख्या 31 थी। इतनी संख्या में वन्यजीवों की मौत से वन विभाग की बड़ी किरकिरी हुई थी। इस हादसे से सबक सीखने के बाद ही हाईलैंड निर्माण की दिशा में प्रयास किए गए। गौरतलब है कि काजीरंगा नेशनल पार्क में एक सींग वाले गैंडों की दो तिहाई आबादी बसती है।