स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अराकान आर्मी ने रिहा किए चार भारतीय

arun Kumar

Publish: Nov 06, 2019 08:00 AM | Updated: Nov 06, 2019 00:32 AM

Guwahati

म्यांमार (Maynmar) की विद्रोही अराकान आर्मी ने चिन राज्य से 10 लोगों का अपहरण (Kidnapped 10 people) कर लिया था। इनमें पांच भारतीय भी शामिल थे। अपहरण के दौरान हुए हमले में एक भारतीय की मौत हो गई (An indian died) जिसकी पहचान 60 वर्षीय वीनू गोपाल के रूप में हुई।

सुवालाल जांगु. आइजोल. म्यांमार की विद्रोही अराकान आर्मी ने रविवार सुबह चिन राज्य से 10 लोगों का अपहरण कर लिया था। इनमें पांच भारतीय भी शामिल थे। अपहरण के दौरान हुए हमले में एक भारतीय की मौत हो गई थी जिसकी पहचान 60 वर्षीय वीनू गोपाल के रूप में हुई। आर्मी की ओर से सोमवार देर चार भारतीयों और चार म्यांमार नागरिकों को रिहा कर दिया गया। अपहरणकर्ताओं ने वीनू गोपाल का शव भी लौटा दिया। चारों भारतीय विजय कुमार सिंह, नांगशनबॉक सुइअम, राकेश शर्मा और अजय कोठियाल रिहा होने के बाद म्यांमार के नागरिकों के साथ रखाईन राज्य के क्यौकताव पुलिस स्टेशन पहुंचे। दो लोग अभी भी आर्मी के कब्जे में हैं। बताया जा रहा है कि रविवार सुबह यह सभी चिन राज्य के पलेटवा कस्बे के क्यौंत गांव से एक नाव में सवार होकर रखाईन राज्य के क्यौकताव कस्बे की ओर जा रहे थे। विद्रोही अराकान आर्मी ने देर सुबह नाव में सवार एक एमपी, 5 भारतीय नागरिक और 2 म्यांमार के नागरिक सहित 2 नाव चालकों को अगुवा कर लिया था। विद्रोही अराकान आर्मी के प्रवक्ता खइंग थुखा ने बताया, 'हमने सभी बंधकों के साथ गरिमापूर्ण बर्ताव किया। लेकिन एए के प्रवक्ता ने एमपी की रिहायी के बारे में कुछ भी नहीं बताया। अगुवा किए गए सभी 5 भारतीय नागरिक म्यांमार में कलादान बहूविध पारवहन परिवहन परियोजना के एमटीटीपी में काम कर रहे थे। विद्रोही अराकान आर्मी ने मिज़ोरम से भारत-म्यांमार सीमा पर अपने अड्डे बना रखे हैं। 26 अक्टूबर को विद्रोही अराकान आर्मी ने रथेंडौंग कस्बे से 50 लोगों का अपहरण किया था जिनमें पुलिस जवान और सैनिक शामिल थे।

[MORE_ADVERTISE1]