स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Facebook ने NRI महिला को 40 साल बाद बिछड़ी बहन से मिलाया, जब दोनों मिली तो...

Prateek Saini

Publish: Jul 17, 2019 16:15 PM | Updated: Jul 17, 2019 16:15 PM

Guwahati

Advantages Of Facebook: NRI महिला जब हर प्रयास कर थक गई तो उसने फेसबुक ( Facebook Benefits For Users ) का सहारा लिया. फेसबुक का इस तरह से उपयोग कर ( How To Use Facebook ) हम बिछड़ों से मिल सकते है।

(राजीव कुमार): लोगों को जोड़ने वाली सोशल साइट फेसबुक ( Facebook ) अब बिछड़े लोगों को मिलाने का काम भी कर रही है। हर तरह के प्रयास के करने के बाद थकी-हारी NRI महिला ने 20 साल पहले खोई बहन को खोजने के लिए फेसबुक का सहारा लिया ( advantages of facebook ) और उसे मिजोरम में खोज निकाला। NRI महिला की बहन की शादी 1980 में हुई थी। उसके बाद से ही वह अपनी बहन से नहीं मिली थी। इस तरह फेसबुक ने 40 साल बाद NRI महिला को उसकी बहन से मिलाया।


हर प्रयास रहा विफल

 

Advantages Of Facebook

अमेरिका में अपने पति के साथ काम करने वाली ज्योति इडला रुद्रपति पिछले 20 सालों से अपनी बहन कमला की तलाश कर रही थी। लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। रूद्रपति को थोड़ा बहुत विश्वास था कि उसकी बहन मिजोरम में हो सकती है। बीते दिनों उसने एक मिजोरम के फेसबुक ग्रुप में पोस्ट डाली ताकि उसे बहन को खोजने में मदद मिले।


फेसबुक ग्रुप पर छलके भाव

 

Advantages Of Facebook

रुद्रपति ने अपनी बहन कमला का उसके पति के साथ एक पुराना फोटो फेसबुक ग्रुप में पोस्ट करते हुए लिखा कि यह हिमगलियाना अपनी पत्नी कमला के साथ हैं, जो मिजोरम के सियालसुक गांव के रहने वाले थे। हिमगलियाना ने 1980 में कमला से शादी की और मिजोरम चले आए। उसके बाद से हमारा कोई संपर्क नहीं हो पाया है। वह तेलांगना आंध्रप्रदेश से है। हिमगलियाना सीआरपीएफ से सेवानिवृत हो चुके हैं। इस परिवार से हमारा संपर्क टूट गया है। हम पिछले 20 सालों से उनको खोजने की कोशिश कर रहे हैं।

 

ग्रुप का एक सदस्य निकला बहन का भतीजा

 

पोस्ट के चार घंटे बाद रुद्रपति को अपनी खोई हुई बहन मिल गई। इस ग्रुप का एक सदस्य हिमगलियाना का भतीजा निकला। उसने अपनी चाची कमला को तुरंत इसकी खबर दी। फिलहाल कमला उत्तरी मिजोरम के कोलासिब शहर में रह रही है। बाद में ग्रुप के अन्य सदस्य ने कमला के बेटे जोरममविया का टेलीफोन नबंर पोस्ट किया। वह मिजोरम की राजधानी आइजल के पास लावईपु में रहता है।


बिछड़ी बहनों ने की बात, आंखों से निकले आंसू

Advantages Of Facebook

रुद्रपति ने अपने भांजे के नंबर पर फोन किया तो उसने अपनी मां कमला का नंबर दिया। दोनो बहनें जब फोन पर जुड़ी तो रोने लगी क्योंकि रुद्रपति अपनी बहन से फोन पर चालीस साल बाद बात कर रही थी।

86 वर्षिय मां को फिर मिली बेटी

Advantages Of Facebook

रुद्रपति ने फेसबुक ग्रुप के पेज पर लिखा–धन्यवाद,मुझे मेरी बहन मिल गई है। मैंने उससे अभी बात की है। यह अतुल्य है। मैं अपने पर विश्वास नहीं कर पा रही हूं। आप सभी का धन्यवाद। भगवान का भी लाख-लाख शुक्र। मेरी मां 86 साल की है। उसे अभी अभी यह बात पता चली है। वह अत्यंत भावविभोर हो गई है।


रुद्रपति मूलत: तेलांगना से है। फिलहाल वह अमेरिका में अपने पति के साथ काम करती है। उसने कहा कि वह जल्द भारत आकर अपनी बहन से मिलना चाहती है। उसने कहा कि उसके परिवार ने कमला की खोज के लिए अनेक प्रयास किए, पर सब विपल हो गए। आखिरकार सोशल मीडिया ने कमाल कर दिखाया। रुद्रपति ने कहा कि कमला का पति मिजो था इसलिए उसे लगा कि मिजोरम में ही कमला हो सकती है।इसलिए मिजोरम के फेसबुक ग्रुप में मैंने इस बारे में पोस्ट लिखकर प्रयास किया,जो सफल हुआ।

 

कमला के बेटे को मौसी ने बताई दर्द भरी कहानी

 

कमला के बेटे से रुद्रपति को पता चला कि शादी के बाद उसके माता-पिता मिजोरम चले आए थे।सीआरपीएफ से रिटायर होने के पहले ही वे मिजोरम आए।रिटायर के पहले ही पिता ने नौकरी छोड़ दी।दूसरे काम कर वे अपना परिवार चलाने लगे।उनकी आर्थिक हालत ठीक नहीं थी।पिता का देहांत कैंसर से 2013 में हो गया।कमला के बेटे ने कहा कि हम मां के परिवारवालों से मिलना चाहते थे,लेकिन आर्थिक तंगी की वजह से तेलांगना जाना संभन नहीं हो पाया।

पूर्वोत्तर की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़े: Fake Id : सोशल मीडिया पर ऐसे करें फेक आइडी की पहचान, देखते ही पहचान लेंगे फेक आईडी