स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गुरुग्राम नगर निगम के ज्वाइंट कमिश्नर सहित दो चीफ इंजीनियर्स को नोटिस

Chandra Prakash sain

Publish: Nov 09, 2019 18:01 PM | Updated: Nov 09, 2019 18:01 PM

Gurgaon

हो सकते है मुकदमा दर्ज

गुरुग्राम . प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने क्षेत्रीय कार्यालय नोर्थ जोन नगर निगम के चारों जोन के ज्वाइंट कमिश्नर मुकेश कुमार, गौरव अंतिल, हरिओम अत्री व संजीव कुमार के साथ दो चीफ इंजीनियर एनडी वशिष्ठ व रमन शर्मा को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।
जानकारी के अनुसार बोर्ड के अधिकारियों ने सेक्टर 29 ओल्ड जेल कांप्लेक्स ऑटो मार्केट सेक्टर.10 रोडवेज वर्कशॉप सेक्टर 47 सेक्टर 16 में जीएमडीए के बूस्टिंग स्टेशन सहित 32 माइल स्टोन के आसपास बने डंपिंग यार्ड के निरीक्षण का हवाला देते हुए कहा गया है कि किसी भी स्थान पर न तो प्रदूषण नियंत्रण के पर्याप्त उपाय किए गए और न ही इन डंपिंग यार्ड में पडे में जमा कूडे में लगने वाली आग पर काबू पाया गया। इससे न सिर्फ एनजीटी और ग्रैप के नियमों की अवहेलना हो रही है वही सुप्रीम कोर्ट के आदेशों पर भी सवालिया निशान लगता है। इन अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस में कहा गया है। म्यूनिसीपल सोलिड वेस्ट प्रबंधन व निगरानी एक्ट 2016 की अनुपालना करवाने के लिए एमसीजी के अधिकारी ही जिम्मेदार हैं। इसलिए नियमानुसार जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई यानि एफआईआर दर्ज करवाने की कार्रवाई क्यों न की जाए।
नोटिस में यह भी कहा गया है की देश की राजधानी दिल्ली के साथ लगते हुए गुरुग्राम साइबर सिटी की खराब होती आबोहवा के लिए जिम्मेदार अफसरों के क्यो ना कार्यवाही की जाये।

[MORE_ADVERTISE1]