स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विधानसभा चुनाव के बाद ठहर गई कांग्रेस की बस

Devkumar Singodiya

Publish: Dec 15, 2019 17:33 PM | Updated: Dec 15, 2019 17:33 PM

Gurgaon

विधानसभा चुनाव में 31 सीटें हासिल कर कांग्रेस ने सफलता का अहसास कर लिया है। ऐसे में संगठन का ढांचा जिला और ब्लॉक स्तर तक खड़ा करने की जरूरत भुला दी गई है।

चंडीगढ़. हरियाणा में विधानसभा चुनाव निपटाने के बाद कांग्रेस की बस फिर ठहर गई है। ऐन चुनाव के वक्त हरियाणा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के पद से डॉ. अशोक तंवर को हटाकर सांसद कुमारी शैलजा को नियुक्त किया गया था। तब कुमारी शैलजा ने कहा था कि अब चुनाव करीब है और ऐसे में पार्टी के जिला एवं ब्लॉक अध्यक्ष नियुक्त करने का समय नहीं है, लेकिन चुनाव के बाद प्रदेश कांग्रेस की बस फिर ठहर गई है।

विधानसभा चुनाव में 31 सीटें हासिल कर कांग्रेस ने सफलता का अहसास कर लिया है। ऐसे में संगठन का ढांचा जिला और ब्लॉक स्तर तक खड़ा करने की जरूरत भुला दी गई है। इतना ही नहीं महिला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद तीन माह बाद भी कार्यवाहक अध्यक्ष सुधा भारद्वाज संभाल रही है। विधानसभा चुनाव से पहले सुमित्रा चौहान के भाजपा में चले जाने से यह पद खाली हुआ था।

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद पर अशोक तंवर के रहते गुटबाजी हावी थी। तंवर विरोधी नेता उन्हें जिला और ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष नियुक्त न किए जाने के लिए दोषी ठहराते थे, लेकिन तंवर के स्थान पर कुमारी शैलजा को लाए जाने के बाद भी स्थिति में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है। जानकार सूत्रों का कहना है कि सुमित्रा चौहान को भाजपा से वापस कांग्रेस में घर वापसी के लिए मनाने के प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन वे अब लौटने को तैयार नहीं है। ऐसे में अब नेतृृत्व कुशल महिला की तलाश की जा रही है।


संगठन को सही दिशा की जरूरत


प्रदेश में अब कांग्रेस मुख्य विपक्षी दल है। भाजपा-जजपा की गठबन्धन सरकार को सही दिशा में सक्रिय रखने का लोकतांत्रिक जिम्मा उसके ही कंधों पर है। ऐसे में जिला और ब्लॉक स्तर पर संगठन का ढांचा न होने की स्थिति में वह गठबंधन सरकार की मनमानी रोकने के लिए जरूरी आंदोलन खडा नहीं कर पाएगी। पिछले पांच साल की तरह ही कांग्रेस अब तक भी पूरी तरह पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष भूपेन्द्र सिंह हुड््डा में समाई हुई दिखाई दे रही है। गठबंधन सरकार के कामकाज पर सटीक टिप्पणियां हुड््डा की ओर से ही की जा रही है। हाल में कैग की रिपोर्ट के आधार पर प्रदेश की पिछली भाजपा सरकार के दौरान पांच हजार करोड के खनन घोटाले का मुद््दा भी अखिल भारतीय कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने उठाया था। इसके बाद सुरजेवाला ने ही समर्थन मूल्य पर हरियाणा व पंजाब में धान एवं गेंहूं की सरकार खरीद घटाए जाने की योजना का मुद््दा उठाया गया था। कुमारी शैलजा की सक्रियता चुनाव बाद कम ही दिखाई दी है।

 



हरियाणा की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...
पंजाब की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...
जम्मू कश्मीर की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...

[MORE_ADVERTISE1]