स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Gangster Papala Encounter: सरेंडर या एनकाउंटर, 50-50 हजार के इनामी राहुल और अशोक को दबोचा

Devkumar Singodiya

Publish: Sep 19, 2019 01:22 AM | Updated: Sep 19, 2019 01:22 AM

Gurgaon

बहरोड ( Beharor ) पुलिस थाने पर 6 सितम्बर को हमला कर गैंगस्टर ( Gangster ) को फरार कराने के आरोप में पुलिस ने 50-50 हजार के दो इनामी आरोपियों को दबोच लिया।

रेवाड़ी. राजस्थान के बहरोड़ पुलिस थाने पर हमला व फायरिंग कर विक्रम उर्फ पपला गुर्जर ( Papla Gurjar ) को फरार कराने के आरोप में एसओजी ( SOG ) ने 50-50 हजार रुपए के दो इनामी आरोपियों को गिरफ्तार किया है।
एटीएस ( ATS ) के अतिरिक्त महानिदेशक एवं एसओजी अनिल पालीवाल ने बताया कि फरार कराने के आरोप में रेवाड़ी हरियाणा ( Haryana ) निवासी राहुल पुत्र सूरजभान (26) और खैरोली, महेंद्रगढ़ हरियाणा निवासी अशोक गुर्जर उर्फ मेजर पुत्र ग्यारसीलाल (27) को गिरफ्तार किया है। मामले में राजस्थान पुलिस ( Rajasthan Police ) की जबरदस्त छिछालेदारी के कारण जिस तरह पपला पर दबाव बनाया जा रहा है, उससे सरेंडर या एनकाउंटर ( Encounter ) की संभावना बलवती होती जा रही है।

अब तक आए गिरफ्त में

बहरोड थाने ( Beharor Police Station ) पर हमला करने के आरोपी विनोद स्वामी, कैलाशचंद्र, जगन खटाना, महिपाल गुर्जर, सुभाष गुर्जर, नरेंद्र सिंह, श्याम सुंदर उर्फ अशोक, जितेंद्र उर्फ जीतू, विक्रम सिंह, महेंद्र उर्फ पप्पू गुर्जर, अजय कुमार उर्फ बिल्लू तथा पांच इनामी अभियुक्त दिनेश कुमार, दीक्षांत गुर्जर, चंद्रपाल उर्फ चंदू, प्रशांत व आकाश यादव को एसओजी ने पहले ही गिरफ्तार कर लिया। फरारी प्रकरण में 7 इनामी सहित कुल 18 अभियुक्तों को अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है।

पूरा पुलिस थाना हुआ था सस्पेंड

बहरोड थाने में हुई फायरिंग प्रकरण में लापरवाही बरतने पर हैड कॉस्टेबल विजयपाल और रामावतार को सेवा से बर्खास्त किया गया। पूर्व में वृत्ताधिकारी रहे जनेश सिंह तंवर, थानाधिकारी ( SHO ) सुगन सिंह, हैड कॉस्टेबल सुनील और कांस्टेबल कृष्णकुमार को निलंबित किया गया था। वृत्ताधिकारी ( CO ) रामजीलाल को एपीओ किया गया है। बहरोड थाने के शेष सभी 69 पुलिस कर्मियों को लाइन हाजिर कर उनके स्थान पर नया स्टाफ लगा दिया। बहरोड में नए पुलिस उपाधीक्षक ( DSP ) अतुल साहु को जबकि नवाब खान को भिवाड़ी वृत्ताधिकारी पद पर लगाया गया था।