स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

देश के बैंकों में देशवासियों का पैसा नहीं सुरक्षित

Chandra Prakash sain

Publish: Oct 18, 2019 17:40 PM | Updated: Oct 18, 2019 18:35 PM

Gurgaon

Haryana: सुनियोजित तरीके से आर्थिक उथल-पुथल का माहौल बना रही भाजपा : मनीष तिवारी

चंडीगढ़. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एवं पंजाब के आनंदपुर साहिब से लोकसभा सांसद मनीष तिवारी ने कहा है कि देश इस समय आर्थिक संकट से गुजर रहा है। केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों की हालत यह है कि देश के बैंकों में ही देशवासियों का पैसा सुरक्षित नहीं है। मनीष तिवारी शुक्रवार को चंडीगढ़ स्थित हरियाणा कांग्रेस मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि केंद्र में जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा की सरकार सत्ता में आई है तब से यह देश आर्थिक रूप से कमजोर हुआ है। उन्होंने कहा कि कमजोर अर्थव्यवस्था के चलते पंजाब व महाराष्ट्र के बैंकों का विलय किया गया था। अब निजी क्षेत्र के बैंकों के सामने भी संकट आ रहा है। देश में इस समय सांप्रदायिक अस्थिरता का माहौल है। जिस कारण आर्थिक विकास पूरी तरह से ठप हो गया है।

भारतीय संसद में वित्त मंत्रालय की स्थाई समिति के सदस्य होने के नाते कांग्रेसी सांसद ने दावा किया कि देश में सुनियोजित तरीके से आर्थिक उथल-पुथल का माहौल पैदा किया जा रहा है। पहले नोटबंदी और फिर जीएसटी के घातक परिणाम बैंकों की तालाबंदी के रूप में सामने आ रहे हैं।
उन्होंने कहा कि आज देश आर्थिक रूप से आईसीयू में जा चुका है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्ष 2024 तक देश की अर्थव्यवस्था को आठ ट्रिलीयन डॉलर तक पहुंचाने की बात करते हैं जबकि वर्तमान में देश की अर्थव्यवस्था 2.06 ट्रिलीयन डॉलर है जो केवल पांच प्रतिशत की रफ्तार से बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि देश की औद्योगिक विकास दर पिछले साल 5.1 प्रतिशत थी जो इस समय कम होकर 3.1 प्रतिशत रह गई है।

मनीष तिवारी ने केंद्र की एनडीए सरकार के कार्यकाल की तुलना पूर्व यूपीए सरकार के साथ करते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल के दौरान वर्ष 2006-07 से लेकर 2010-11 तक निजी निवेश जहां 25 लाख करोड़ था वहीं एनडीए के कार्यकाल के दौरान वर्ष 2018-19 में निजी निवेश गिरकर 9.50 लाख करोड़ पर पहुंच गया है।

मनीष तिवारी ने आर्थिक रिपोर्ट के आधार पर दावा किया कि देश में आर्थिक मंदी है इसके बावजूद वर्ष 2009 से 2014 तक 5.8 बिलियन डॉलर पैसा देश से बाहर गया था जबकि इस वर्ष अप्रैल से जुलाई माह तक महज चार माह में इतनी ही धनराशि देश से बाहर जा चुकी है। यह आंकड़ा समूृचे देशवासियों के लिए चिंता का विषय है। इस अवसर पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता पवन खेड़ा, पंजाब लार्ज इंडस्ट्रीयल विकास बोर्ड के चेयरमैन पवन दीवान, पंजाब एग्रो एक्सपोर्ट कारपोरेशन के चेयरमैन रविंद्र सिंह पाली, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के मीडिया सलाहकार केवल ढींगरा समेत कई नेता मौजूद थे।

हरियाणा में विकास करते तो 370 व सावरकर पर वोट नहीं मांगते

कांग्रेसी सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने केंद्र व हरियाणा के भाजपा नेताओं को हरियाणा विधानसभा चुनाव के मुद्दे पर घेरते हुए कहा कि भाजपा के केंद्रीय नेता हरियाणा में जब भी प्रचार के लिए आते हैं तो वह हरियाणा में पिछले पांच वर्षों के दौरान किए गए विकास की बात करने की बजाए धारा 370 और सावरकर की बात करते हैं। मुनीष तिवारी ने कहा कि हरियाणा की जनता का धारा 370 के साथ कोई सरोकार नहीं है। इसके बावजूद हरियाणा वासियों का असल मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए भाजपा के नेता प्रदेश के विकास, कानून-व्यवस्था, अर्थव्यवस्था, महिला उत्पीडऩ की घटनाओं के मुद्दों पर बात करने की बजाए सांप्रदायिक मुद्दों को उठाकर माहौल बिगाडऩे का प्रयास कर रहे हैं।