स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सीएम खट्टर की दो टूक: हरियाणा से बाहरी लोगों को खदेड़ा जाएगा

Devkumar Singodiya

Publish: Sep 21, 2019 18:12 PM | Updated: Sep 21, 2019 18:12 PM

Gurgaon

जुर्म और हिंसा के हालात देखते हुए सीएम खट्टर ( CM Khattar ) ने साफ कर दिया है कि दूसरे देशों के नागरिकों को यहां नहीं रहने दिया जाएगा।

गुरुग्राम. हरियाणा ( Haryana ) में कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए जरूरी है कि यहां एनआरसी ( NRC ) लागू किया जाए। दूसरे देशों के नागरिकों को हरियाणा में अवैध रूप रहने का अधिकार नहीं है। यह कहना है सीएम मनोहरलाल खट्टर का। शनिवार को पत्रकारों से बात करते हुए सीएम ने कहा कि हरियाणा में नेशनल रजिस्टर फॉर सिटीजन (एनआरसी) बहुत पहले लागू किया जाना चाहिए था। यह वर्ष 1954 में बना हुआ कानून है। वर्ष 1982 में कांग्रेस ( Congress ) ने भी इसे लागू करने का प्रयास किया था, लेकिन वह सफल नहीं हो सकी। वर्तमान हालातों में हरियाणा में इसे लागू करना बेहद जरूरी हो गया है। सरकार इस मामले में सख्त कदम उठाने से भी पीछे नहीं हटेगी।

हरियाणा में लागू होगी एनआरसी

किसी भी देश का नागरिक बगैर मंजूरी हरियाणा में आकर रहता है तो वह कानून-व्यवस्था के लिए चुनौती पैदा कर सकता है। इसी के मद्देनजर सरकार ने प्रदेश में एनआरसी लागू करने का फैसला किया है। सीएम ने कहा कि अभी यह केवल असम में लागू किया गया है। इस मामले में केंद्र सरकार देशव्यापी नीति बना रहा है। इसी नीति को हरियाणा में लागू किया जाएगा।

राष्ट्रहित में सहयोग करे विपक्ष


मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विपक्ष को एनआरसी के मुद्दे पर राजनीति करने की बजाए हरियाणा के हित में सोचने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि आमजन के हितों को देखते हुए कई बार राजनीति से हटकर फैसला लेना पड़ता है। यह कड़ा फैसला कुछ लोगों के लिए नुकसानदायक हो सकता है, लेकिन बड़ी संख्या में लोग लाभान्वित होते हैं। विपक्ष को इसे चुनावी मुद्दा ( Election Issue ) नहीं बनाना चाहिए।


हरियाणा की अधिक खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें ...
पंजाब की अधिक खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें ...