स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जब बड़े भाई ने दी मुखाग्नि तो नम हुई हर आंख

Satyendra Porwal

Publish: Dec 07, 2019 00:45 AM | Updated: Dec 07, 2019 00:45 AM

Gurgaon

पंचतत्व में विलीन हुए मूंदसा के शहीद अमित कुमार।
राजकीय सम्मान से गांव में अंतिम संस्कार।
श्रीनगर में हिमस्खलन में शहीद हुए थे मूंदसा का अमित।

(झज्जर). तीन दिन पूर्व श्रीनगर के तंगधार में साथियों के साथ हिमस्खलन में शहीद हुए झज्जर के गांव मूंदसा के अमित कुमार गमगीन माहौल के बीच शुक्रवार को पैतृक गांव में पंचतत्व में विलीन हो गए। पूरे राजकीय सम्मान से उनका गांव की पंचायती भूमि पर अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार के दौरान उस समय माहौल ज्यादा गमगीन हो गया, जब सैनिक बड़े भाई ने शहीद अमित को मुखाग्नि दी। शहीद अमित के पार्थिव शरीर के साथ आए सैन्य अधिकारियों के अलावा, जिला प्रशासन के अधिकारियों व विभिन्न राजनीतिज्ञों ने पुष्पाजंलि अर्पित की।
पूरे गांव को रहा इंतजार

पिछले 48 घंटे से शहीद अमित के पार्थिव शरीर के आने का परिजनों के अलावा पूरे गांव को इंतजार रहा। दोपहर बाद करीब चार बजे जैसे ही शहीद का शव गांव लाया गया तो हर किसी की आंख नम हो गई। शहीद अमित की अंतिम यात्रा उनके घर से शुरू हुई और गगनभेदी नारों के बीच गांव की उस पंचायती भूमि पर पहुंची, जहां अंतिम संस्कार की तैयारियां की गई थी।
सेना व हरियाणा पुलिस ने दी श्रद्धाजंलि
सेना के जवानों व हरियाणा पुलिस की टुकड़ी ने शहीद को श्रद्धाजंलि दी। इससे पहले जिला प्रशासन की तरफ से एसडीएम शिखा, डीएसपी रणबीर सिंह व झज्जर विधायक और पूर्व शिक्षा मंत्री गीता व भाजपा सांसद डा.अरविन्द शर्मा की तरफ से उनके भाई राज अरविन्द शर्मा ने पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी। गांव के सैकड़ों युवा बाइक पर झज्जर से शहीद अमित के पार्थिव शरीर के साथ गांव पहुंचे।

[MORE_ADVERTISE1]