स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

प्रेमी की नशे की लत छुड़ाने सात समंदर पार डेनमार्क से आई महबूबा

Brijesh Singh

Publish: Aug 22, 2019 17:57 PM | Updated: Aug 22, 2019 17:57 PM

Gurdaspur

Inspiring Love Story: प्यार में पड़ा इंसान कुछ भी कर सकता है। यह मिसाल पेश की सात समुंदर पार कर भारत आई डेनमार्क ( Denmark ) की युवती कैटलीन ने।

( गुरदासपुर, धीरज शर्मा ) । प्यार इंसान की जिंदगी बदल सकता है। प्यार में पड़ा इंसान कुछ भी कर सकता है। यह मिसाल पेश की सात समुंदर पार कर भारत आई डेनमार्क ( Denmark ) की युवती कैटलीन ने। कैटलीन को जुनून इस बात का था कि वह अपने प्यार को, जो पंजाब के गुरदासपुर ( Gurdaspur ) जिले में में रह रहा था, उसे नशे की दल-दल से निकाल कर प्यार-मोहब्बत के बागीचे में ला कर खड़ा कर देगी। उसने ऐसा किया भी। आज कैटलीना का प्यार को हथियार बना कर खेला गया दांव सफल रहा और उसका प्रेमी नशे के चंगुल से न सिर्फ बाहर आया, बल्कि अब वह भी कैटलीना का हमकदम बन कर समाज में सम्मानजनक जीवन जी रहा है।

कब-कैसे-क्या हुआ

भारत में पंजाब प्रांत जहां अपनी मेहनत और जीवंतता को लेकर पूरी दुनिया में साख बटोरता रहा है, वहीं पंजाब के युवाओं के पाकिस्तान पोषित नशा कारोबारियों ( Drugs From Pakistan ) की गिरफ्त में फंस कर नशे की दलदल में फंसने जाने की घटनाएं भी खूब सामने आती रही हैं। यहां तक कि उस पर उड़ता पंजाब ( Udta Punjab ) नाम की फिल्म भी बन चुकी है। पंजाब के ऐसे ही एक जिले गुरदासपुर का रहने वाला है युवा मनजीत सिंह। न जाने कब दोस्तों की संगत में उसने नशे को अपने जीवन का अंग बना लिया।

प्यार का अंकुर लेकर आई कैटलीन

शायद यह मनजीत सिंह का भाग्य ही था कि जब वह नशे की दलदल में धंसता ही जा रहा था, तो इसी बीच उसके जीवन में कैटलीन का आगमन हुआ। डेनमार्क की रहने वाली कैटलीन को गुरदासपुर के मनजीत सिंह से पहले तो दोस्ती हुई, जो बाद में प्यार ( Inspiring Love Story ) में बदल गई। कालांतर में ये प्रेम कहानी कई मायनों में अद्भुद साबित हुई, जब नशे के आदी अपने प्रेमी मनजीत को कैटलीन ने इस भंवरजाल से बाहर निकालने का फैसला किया।

हमसफर बनने का बड़ा फैसला
कैटलीन ने देखा कि प्रेमिका बन कर जब वह मनजीत को नशे की दलदल से बाहर निकालने में सफल नहीं हो पा रही है, तो फिर उसने अपने जीवन का भी सबसे बड़ा फैसला ले डाला और मनजीत की पत्नी बनने का फैसला किया, ताकि वह अपने पति के साथ साए की तरह रह कर उसे इस दलदल से बाहर निकाल सके। इसके लिए वह सात समंदर पार कर भारत आ पहुंची। कैटलीन का भरोसा रंग लाया और इसी भरोसे की बदौलत उसने अपने पति को नशे के चंगुल से बचा कर मिसाल पेश की। कैटलीन ने इसके लिए विशेष तौर पर गुरदासपुर के रेड क्रास नशा छुडाओ केंद्र और फतेहगढ़ चूडियां पुलिस ( Punjab Police ) को भी धन्यवाद व्यक्त किया है।

पंजाब की ताजा तरीन खबरों के लिए यहां क्लिक करें....