स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शहीद मनिंदर को थी अफसर बनने की ललक,कहता था कि-अफसर बन जाऊं तो कर लूंगा शादी

Prateek Saini

Publish: Feb 16, 2019 18:43 PM | Updated: Feb 16, 2019 18:43 PM

Gurdaspur

बीटेक पास मनिंदर सिंह के पिता सतपाल सिंह पंजाब रोडवेज से बतौर ट्रैफिक मैनेजर सेवानिवृत हुए हैं...

(गुरदासपुर): पुलवामा में गुरूवार को हुए हमले में गुरदासपुर ने भी अपना लाल खो दिया। इस हमले में दीनानगर के आरिया नगर के रहने वाले मनिंदर सिंह शहीद हो गए। मनिंदर पिछले साल 2018 में सीआरपीएफ में भर्ती हुए।


बीटेक पास मनिंदर सिंह के पिता सतपाल सिंह पंजाब रोडवेज से बतौर ट्रैफिक मैनेजर सेवानिवृत हुए हैं। उनका छोटा भाई लखबीर सिंह भी सीआरपीएफ में कार्यरत हैं और असम में तैनात हैं। मनिंदर सिंह ऊंचा मुकाम हासिल करना चाहते थे और उनकी अफसर बनने की इच्छा थी। इसी कारण वह सीआरपीएफ में रहते हुए भी समय-समय पर परीक्षा देते रहते थे और हाल ही सीआइडी का टेस्ट पास भी कर चुके थे। उनकी पुलिस इन्कवायरी भी हो चुकी थी। बहनें और पिता उन्‍हें शादी करने के लिए कहते थे तो उनका एक ही जवाब रहता था कि अफसर बन जाऊं, फिर शादी करुंगा। इसके लिए उन्‍होंने परिवार से एक साल का समय मांगा था। बचपन से ही निडर मनिंदर सिंह कुछ कर गुजरने के जोश से ओतप्रोत थे। ग्रामीणों के अनुसार, उसे देखकर लगता था वह गांव और क्षेत्र का नाम चमकाएगा। देश के लिए शहादत देकर वीर सपूत ने इसे साबित भी कर दिया।