स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बारिश रुकने के बाद भी न नई सडक़ें बन सकीं, न ही क्षतिग्रस्त सुधरीं

Deepesh Tiwari

Publish: Oct 29, 2019 15:06 PM | Updated: Oct 29, 2019 15:06 PM

Guna

लोक निर्माण विभाग की 26 सडक़ें ऐसी हैं जो अतिवृष्टि से क्षतिग्रस्त...

गुना. जिले में इस समय सडक़ों की हालत बेहद खराब है, क्योंकि एक तरफ तो जहां शासन से स्वीकृत हुई सडक़ें समयसीमा में नहीं बन सकी हैं। वहीं जो सडक़ें थीं वे बीते माह अत्यधिक बारिश के कारण बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई हैं।

गौर करने वाली बात है कि बारिश रुके हुए एक माह पूर्ण हो चुका है लेकिन अभी तक संबंधित विभाग ने अपनी क्षतिग्रस्त सडक़ों को दुरुस्त नहीं कराया है। जिसका खामियाजा वाहन चालकों को दुर्घटना व वाहनों की टूटफूट के रूप में भुगताना पड़ रहा है।

जानकारी के मुताबिक लोक निर्माण विभाग की 26 सडक़ें ऐसी हैं जो अतिवृष्टि से क्षतिग्रस्त हुई हैं। वहीं मुख्यमंत्री ग्राम सडक़ योनजा अंतर्गत 37 नई सडक़ों का काम तो वन क्षेत्र व भूमि विवाद होने के कारण शुरू ही नहीं हो पाया है।

37 सडक़ों का काम शुरू भी नहीं हुआ: मुख्यमंत्री ग्राम सडक़ योजना अंतर्गत जिले में 421 सडक़ें स्वीकृत हुईं। इनमें से अब तक 333 सडक़ों का काम ही पूर्ण हो सका है। जबकि 51 सडक़ों का काम अभी अधूरा है। 37 सडक़ों का काम वन क्षेत्र व भूमि विवाद होने से शुरू ही नहीं हो सका है।

[MORE_ADVERTISE1]

हमारे विभाग की जो भी सडक़ें अधूरी हैं, उनका काम दिसंबर से मार्च के बीच में पूर्ण कर लिया जाएगा। बारिश से क्षतिग्रस्त हुई सडक़ों को भी जल्द सुधारा जाएगा।
- अनिल जैन, कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग गुना

पत्राचार में उलझा फतेहगढ़-झिरी मार्ग
जिले की बमोरी विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत फतेहगढ़ से बीलखेड़ी वाया झिरी मार्ग 310.88 लाख की लागत से 4.10 किमी लंबी सडक़ बनाई जानी थी। लेकिन यह काम अटका हुआ हुआ है। निर्माण एजेंसी लोक निर्माण विभाग का कहना है कि वन विभाग से स्वीकृति उपरांत निविदा की कार्यवाही की जाएगी।

वन विभाग से अनुमति के लिए 4 अप्रैल 2018 एवं 20 अप्रैल 2018 को दो बार संबंधित विभाग पत्र लिख चुका है लेकिन अभी तक कोई निराकरण नहीं निकल सका है।

जिले के यह सडक़ें हैं अधूरी...
: पगारा, करोद, पिपरोदाखुर्द, भूतमढ़ी, रुसल्ला, खामखेड़ा मार्ग 2922.02 लाख से बनाई जानी है।
: कुंभराज से बटावदा ईटखेड़ी मार्ग पर 126.35 लाख की लागत से सडक़ बिछाई जानी है।
: भमावद से एनएफएल मार्ग तक 407.00 लाख की लागत से 3.60 किमी लंबी सडक़ बिछाई जानी है। यह काम 31 अक्टूबर तक पूरा होना था लेकिन अभी भी अधूरा है।

[MORE_ADVERTISE2]

: ग्राम लोडेरा से झुमका मार्ग पर 496.57 लाख की लागत से 6.50 किमी सडक़ बिछाई जानी थी तथा यह काम 29 अक्टूबर 2019 तक पूरा होना था लेकिन अभी भी अधूरा है।
: पिपरोदाखुर्द स्कूल से नानाखेड़ी मंडी मुख्य मार्ग 170.54 लाख की लागत से 1.15 किमी सडक़ बिछाई जानी थी। जिसमें 0.80 किमी का कार्य पूर्ण हुआ है तथा शेष नगर पालिका द्वारा किया गया है लेकिन फिर भी कार्य अपूर्ण है।
: ग्राम खेजरा से वाया हिंगोनी होकर कानेड़ तक के मार्ग में 710.58 लाख की लागत 7.10 किमी की सडक़ बिछाई जानी थी। लेकिन अभी पंचम निविदा आमंत्रण कार्यवाही ही प्रचलित है।
: विजयपुर से शेखपुर मार्ग में 202.58 लाख की लागत से 3 किमी की सडक़ 3 अक्टूबर 2019 तक बननी थी। इसी तरह गुना, ऊमरी, सिरसी, एनएच-3 बायपास से महूगढ़ा मार्ग 668.54 लाख की लागत से 6.20 किमी की सडक़ 3 अक्टूबर 2019 तक बननी थी लेकिन वर्तमान में सबग्रेड का कार्य एवं पुलिया निर्माण पूरा नहीं हो सका है।
: पिपरोदा गांव बंसल की बाड़ी से लवकुश मंदिर एनएच-3 बायपास मार्ग 301.63 लाख की लागत से 2.20 किमी सडक़ 31 अक्टूबर 2019 तक बनाई जानी थी लेकिन अभी भी अधूरी है।
: राघौगढ़ रामनगर सागर मार्ग 164.09 लाख की लागत से 1.60 किमी की सडक़ नहीं बनी है।
: अनारथ से परांठ मार्ग-2 पर ब्रिज का मजबूतीकरण कार्य 52.06 लाख की लागत से 31 अक्टूबर 2019 तक पूर्ण किया जाना था लेकिन अभी भी अधूरा है।

[MORE_ADVERTISE3]

: बमोरी विधानसभा अंतर्गत फतेहगढ़-डोबरा, फतेहगढ़ कोहन एवं रेस्ट हाउस फतेहगढ़ पहुंच मार्ग 107.09 लाख की लागत से 0.58 किमी लंबी सडक़ 31 अगस्त 2019 तक पूर्ण होनी थी लेकिन अभी भी कार्य अधूरा है।
: बरखेड़ा-लोहपाल मार्ग-1 पर ब्रिज मजबूतीकरण कार्य 68.06 लाख की लागत से 31 अक्टूबर 2019 तक पूर्ण होना था, जो अभी भी अधूरा है।
: बूढ़े बालाजी से रामपुर वाया हरीपुर मार्ग का पुर्न निर्माण 262.01 की लागत से होना था, जो अभी अधूरा है।
: विशनवाड़ा-भौंरा, भौंरा से हमीरपुर वाया कोहन मार्ग पर मजबूतीकरण कार्य 111.90 लाख की लागत से 31 अक्टूबर तक पूर्ण होना था लेकिन अभी तक सिर्फ सीसी रोड कार्य ही पूर्ण हुआ है जबकि ड्रेन कार्य शेष है।