स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

तकनीकी टीम ने सात घंटे खंगालीं फाइल हर निर्माण कार्य की नोट की जानकारी

Manoj Vishwkarma

Publish: Sep 19, 2019 03:02 AM | Updated: Sep 18, 2019 23:12 PM

Guna

नगर पालिका क्षेत्र में निर्माण कार्यों का मामला

गुना. नगर पालिका परिषद में हुए करोड़ों के निर्माण कार्यों की जांच करने भोपाल से टीम आई है। नपा के सभाकक्ष में टीम के सदस्यों ने सुबह ११ बजे से शाम ६ बजे तक हर फाइल को खंगाला और उनकी महत्वपूर्ण जानकारी नोट की। नपा क्षेत्र में हुए २५ से अधिक निर्माण कार्यों की फाइल देखी जा रही हैं। इसकी शिकायत कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रविंद्र रघुवंशी, पार्षद वंदना मांडरे और वीरेंद्र शर्मा द्वारा की गई थी। इस शिकायत के बाद तीन सदस्यीय तकनीकी टीम गुना पहुंची।

इस टीम में एनपी मालवीय और विनय जैन आदि शामिल हैं। टीम ने अपनी मैराथन जांच पड़ताल में २५ फाइलों की महत्वपूर्ण जानकारी नोट कर ली हैं और गुरुवार को वे साइट पर जाएंगे। जांच टीम को जानकारी देने के लिए गुना से सीएमओ बनकर राघौगढ़ पहुंचे इंजीनियर हरीश श्रीवास्तव को भी बुलाया गया। टीम के साथ सीएमओ संजय श्रीवास्तव, निर्माण शाखा प्रभारी तेज सिंह यादव, ईई आरबी गुप्ता, राकेश शाक्यवार, लेखाधिकारी भानू ओझा आदि परिषद के कार्यालय में बैठे और जानकारी नोट कराते रहे। उल्लख्ेानीय है कि गुरुवार को टीम सभी निर्माण स्थलों पर जाएगी और उनका भौतिक स्वरूप देखेगी। इसमें कई तरह की खामी मिलने की आशंका जताई जा रही है।

जांच के दौरान पहुंचे कांग्रेस पार्षद और कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष, नपाध्यक्ष ने जताई आपत्ति

उधर, सुबह से जांच कर रही टीम ने मीडिया तक को कक्ष में एंट्री नहीं दी। ऐसे में कांग्रेस के दो पार्षद और कार्यकारी अध्यक्ष के कक्ष में पहुंचने पर नपाध्यक्ष ने आपत्ति जताई। नपाध्यक्ष राजेंद्र सलूजा का कहना है कि कांग्रेस के कार्यकारी जिलाध्यक्ष रविंद्र रघुवंशी कक्ष में कैसे बैठे हैं। वे जांच अधिकारी पर दबाव बना सकते हैं। उधर, दो पार्षद वीरेंद्र शर्मा और वंदना मांडरे भी कक्ष में रहीं। अगर, पार्षदों को बुलाना था तो पूरे पार्षदों को बुलाते। उधर, इस मामले में कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रघुवंशी का कहना है कि उन्हें सीएमओ संजय श्रीवास्तव से काम था। वे कार्यालय पहुंचे तो सीएमओ नहीं मिले। जानकारी लगी कि सीएमओ परिषद के सभाकक्ष में बैठे हैं। वहां पहुंचा और उनको बैठक से बुला लिया था १५ दिन में कक्ष से बाहर आ गया।

इन बिंदुओं की चल रही है जांच

-नपा ने टेकरी के लिए बाइपास रोड बनाई है। ये रोड टुकड़ों में बनाई है। जबकि बड़ी लागत आने पर भोपाल से स्वीकृति मिलना थी।

-घोसीपुरा में बनाए पुल की जांच हो रही है, इससे बनाने से पहले पुराने पुल को तोडऩे की मंजूरी नहीं ली गई है, इसकी जांच चल रही है।

-पुरानी छावनी में पुल बनाया गया है, उसकी शिकायत भी की गई।

-कैंट मुक्तिधाम के पास पार्क का निर्माण किया गया है। ८७ लाख के इस पार्क को लेकर भी जांच की जाना है।

-बांसखेड़ी के मुक्तिधाम की भी जांच की जा रही है।

-नपा क्षेत्र में करीब २५ निर्माण कार्य ऐसे हैं, जिनकी शिकायत की गई है। ये निर्माण कार्य करोड़ों रुपए के हैं और इनमें कई कमी उजागर हो सकती हैं।