स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Protest: नगर पालिका अध्यक्ष और सीएमओ की खींचतान में गई लक्ष्मीनारायण की जान

Manoj Vishwkarma

Publish: Nov 02, 2019 02:02 AM | Updated: Nov 01, 2019 23:01 PM

Guna

नहीं मिला था दो माह का वेतन, एसडीएम और टीआई बुलाते रहे, नहीं आए सीएमओ

गुना. नगर पालिका में अध्यक्ष और सीएमओ की खींचतान से जहां एक ओर शहर का विकास थम सा गया है और सफाई कार्य पूरी तरह चौपट हो गई है, जिसको लेकर कलेक्टर भी सीएमओ के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। इन दोनों की खींचतान का असर अब नपा कर्मियों के वेतन पर भी दिखाई देने लगा है। इसके चलते नगर पालिका कर्मचारी लक्ष्मीनारायण चंदेल और उसके बेटे बनवारी को केवल इसलिए वेतन नहीं दिया कि वे सलूजा के नजदीकी माने जाते हैं। आर्थिक तंगी से त्रस्त होकर लक्ष्मीनारायण ने शुक्रवार को सुबह के समय अपने घर में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली।

[MORE_ADVERTISE1]

मृतक के पुत्र ने अपने पिता की मौत का जिम्मेदार सीएमओ संजय श्रीवास्तव और जल प्रदाय प्रकोष्ठ केे प्रभारी जीके अग्रवाल को जि मेदार माना और पुलिस कार्रवाई कराने की मांग की। मृतक के परिजन और समर्थकों ने लक्ष्मीनारायण के परिजनों ने नगर पालिका परिसर में शव रखकर घेराव किया और सीएमओ को बुलाने की मांग की। पुलिस और प्रशासनिक अफसरों की समझाइश और कार्रवाई कराने के आश्वासन के बाद यह आंदोलन खत्म हुआ।

मंत्री बोले, जो भी दोषी होगा सख्त कार्रवाई कराएंगे: प्रदेश के नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह के शहर में होने के समय नगर पालिका के कर्मचारी लक्ष्मी नारायण द्वारा वेतन न मिलने से दुखी होकर फांसी लगाकर जान देने के मामले को मंत्री ने गंभीरता से लिया और बोले कि मैं इसकी जांच कराऊंगा,जो भी दोषी होगा उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।

नौकरी पर जाने की थी तैयारी, लेकिन...

मृतक लक्ष्मीनारायण बीते रोज अपनी नौकरी के बाद घर पहुंचा, वह वेतन न मिलने से बेहद दुखी था। शुक्रवार को अपनी नौकरी पर जाने के लिए तैयार भी था, उसका एक साथी रेन बसेरा की चाबी उसको दे गया था। करीब सुबह 11 बजे लक्ष्मीनारायण अपने घर में फांसी पर लटक गया।इसकी सूचना मिलने पर उसकी लाश को अस्पताल ले गए, जहां उसका पोस्टमार्टम कराया। इसी बीच नगर पालिका अध्यक्ष सलूजा वहां पहुंचे उन्होंने दुख जताकर लक्ष्मीनारायण की मौत के लिए सीएमओ को जिम्मेदार ठहराया। उनका कहना था कि अभी तक लक्ष्मीनारायण ने वेतन न मिलने से दुखी होकर अपनी जान दी है, जल्द ही और लोग देंगे। उनका आरोप था कि जानबूझकर सीएमओ दो दर्जन से अधिक कर्मियों को वेतन नहीं दे रहे हैं।

ये है मामला

शिवाजी नगर निवासी लक्ष्मी नारायण चंदेल अटल रेन बसेरा में नौकरी करता है। उसका बेटा बनवारी भी संविदा में जल प्रदाय प्रकोष्ठ में कार्यरत है। नपा में ये चर्चा है कि यह दोनों नपा अध्यक्ष सलूजा के नजदीकी हैं। कुछ समय पूर्व इसकी जानकारी होने पर एक-दो अधिकारियों द्वारा इन दोनों को प्रताडि़त किया जाने लगा था। लक्ष्मीनारायण और उसके बेटे को नगर पालिका के सीएमओ संजय श्रीवास्तव ने दो माह का वेतन नहीं दिया। उसे अक्टूबर माह का वेतन 24 अक्टूबर को दिए जाने की बात नपा अधिकारी कह रहे हैं। दीपावली के समय बकाया वेतन न मिलने से लक्ष्मीनारायण का परिवार त्योहार नहीं मना पाया था।

[MORE_ADVERTISE2]