स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Negligence of administration: सिंधिया, सिसौदिया और इमरती ने किया सड़क का भूमिपूजन, फिर भी नहीं बन पाई सड़क

Manoj Vishwkarma

Publish: Nov 07, 2019 04:02 AM | Updated: Nov 06, 2019 22:45 PM

Guna

गुना-ऊमरी-सिरसी मार्ग: बमोरी क्षेत्र को जोडऩे वाले मार्ग की हालत खस्ता, आए दिन हो रहे हादसे

गुना. कांग्रेस की सरकार बनने के बाद जनवरी में तत्कालीन गुना-शिवपुरी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गुना से बमौरी जाने वाले मार्ग का भूमिपूजन किया था। इसमें प्रदेश के श्रम मंत्री व बमौरी विधायक महेन्द्र सिंह सिसौदिया और जिले की प्रभारी मंत्री इमरती देवी भी शामिल हुई थीं। दस माह बाद इस मार्ग का निर्माण तो दूर गड्ढे तक नहीं भर पाए, जिससे सड़क की हालत इतनी खस्ता हो गई है कि वाहन तो दूर, पैदल भी चलना दूभर हो गया है।

[MORE_ADVERTISE1]

आए दिन इन गड्ढों की वजह से हादसे हो रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार बमोरी क्षेत्र को गुना शहर से जोडऩे वाला गुना-ऊमरी-सिरसी मार्ग पूरी तरह से गड्ढों में बदला हुआ है।55 किमी लंबे गुना-ऊमरी-सिरसी सिंगल मार्ग को टू-लेन में तब्दील किया जाना है। 65 करोड़ के इस प्रोजेक्ट डेढ़ साल में पूरा होना था, लेकिन आधा समय गुजर गया है। इस रोड का काम समय पर शुरू नहीं होने से बमोरी ब्लॉक के सबसे पिछड़े गांवों से संपर्क सुगम नहीं हो पाया है। नई प्रोजेक्ट में यह रोड 7.50 मीटर चौड़ी हो जाएगी। लेकिन काम में देरी होने से पूरे क्षेत्र को गड्डों से दिक्कत हो रही है। इस मामले में एसडीओ महेश गुप्ता को फोन लगाया, लेकिन डन्होंने फोन रिसीवनहीं किया। करीब 18 महीने में पूरा होने वाले प्रोजेक्ट का आधा समय गुजर गया। इसके बाद भी काम की रफ्तार में तेजी नहीं आई। उधर कांट्रेक्ट के अनुसार ठेकेदार को रोड बनाने से पहले गड्ढों पर पैचवर्क करना था,लेकिन अफसरों की मिलीभगत से कोई काम नहीं हुआ।

कर्मचारी और किसान ज्यादा प्रभावित

गुना से ऊमरी-बमोरी, सिरसी को जोडऩे वाले इस मार्ग से किसान और कर्मचारी जुड़े हुए हैं। हर दिन स्कूलों के लिए स्टाफ इस मार्ग से अपडाउन करता है। किसान भी बमोरी क्षेत्र से गुना के लिए इसी मार्ग से आते हैं। साथ ही इसी मार्ग पर गुना का विस्तार कुड़ी मंगवार गांव तक हो गया है। लोगों को निकलने में काफी असुविधा होती है। बताया जाता है कि कुछ समय पूर्व जिला योजना समिति में बमौरी विधानसभा क्षेत्र में सड़क बनने में हो रही देरी को लेकर महेन्द्र सिंह सिसौदिया ने नाराजगी जाहिर की थी, इसके बाद भी काम में सुधार नहीं आया। इस संंबंध में संबंधित अधिकारी से मोबाइल पर स पर्क साधने का प्रयास किया तो उनका मोबाइल स्विच ऑफ मिला।

दो बड़े धार्मिक स्थलों को जोड़ता है रास्ता

यह मार्ग जिले के दो बड़े धार्मिक स्थलों को भी जोड़ता है। निहाल देवी मंदिर और केदारनाथ मंदिर जाने वाले श्रद्धालु इसी रास्ते से होकर जाते हैं। इन दोनों मंदिरों में जाने वाले लोगों की सं या हजारों में रहती है। वर्तमान में लोगों को इन धर्म स्थल तक जाने के लिए परेशानी उठाना पड़ती है। कई जगहों पर यह रास्ता बेहद खतरनाक भी है। इस नवरात्रि और सावन महीने में काफी क्षेत्र के लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था।

[MORE_ADVERTISE2]