स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Award: सिटी कोतवाली और अजाक पुलिस थाने को आईएसओ अवॉर्ड दिलाने की तैयारी

Manoj Vishwkarma

Publish: Nov 04, 2019 02:02 AM | Updated: Nov 03, 2019 23:05 PM

Guna

जल्द बनेगा बूढ़े बालाजी के नाम से नया थाना, दिसंबर में खुल सकता है बाल मित्र थाना

गुना. शहर के बीचोंबीच बनी सिटी कोतवाली और अजाक पुलिस थाने को आईएसओ अवॉर्ड दिलाने की दिशा में युद्ध स्तर पर काम शुरू हो गया है। कुछ समय बाद सिटी कोतवाली और अजाक पुलिस थाने में बदलाव नजर आएगा। कोतवाली में पदस्थ उप निरीक्षक व सहायक उप निरीक्षक कॉमर्शियल कल्चर जैसे ऑफिस में बैठे दिखाई देंगे। दिसम्बर तक बाल मित्र थाना भी कोतवाली में शुरू हो जाएगा।

[MORE_ADVERTISE1]

कोतवाली में क्षेत्र का दबाव और अपराधों का बोझ कम हो, इसके लिए जल्द ही बूढ़े बालाजी क्षेत्र में एक नया थाना खुलेगा। इसी तरह अजाक पुलिस थाने को भी आईएसओ अवॉर्ड दिलाने के उद्देश्य से नया स्वरूप दिया जा रहा है। नए स्वरूप मिलने के बाद दिसंबर में आईएसओ अवॉर्ड के लिए गुना पुलिस की ओर से आवेदन किया जा सकता है। सूत्रों ने बताया कि एसपी राहुल लोढ़ा ने यहां कार्यभार संभालने के बाद सिटी कोतवाली को नया स्वरूप देने की योजना को अमलीजामा पहनाया था। इसके पीछे उनकी मंशा ये है कि सिटी कोतवाली आईएसओ अवॉर्ड पाने वालों की सूची में शामिल हो।

आईएसओ श्रेणी में शामिल होने के लिए कोतवाली पात्र बने, इसके लिए योजनाबद्ध तरीके से कोतवाली को नया स्वरूप दिया जा रहा है। कोतवाली के साथ-साथ अजाक पुलिस थाने को भी आईएसओ अवॉर्ड दिलाने की सूची में शामिल कराने की तैयारी शुरू हो गई है। इन दोनों थानों को नया स्वरूप देने का काम एसपी राहुल लोढ़ा के नेतृत्व और निर्देशन में कोतवाली में सीएसपी संजय चतुर्वेदी और कोतवाली प्रभारी अवनीत शर्मा की देखरेख में कोतवाली व अजाक डीएसपी विवेक शर्मा की देखरेख में अजाक पुलिस थाने को नया स्वरूप दिया जा रहा है।

ऊपरी मंजिल पर होगा बाल मित्र थाना: कोतवाली की ऊपरी मंजिल पर बाल मित्र थाना तैयार हो रहा है। बाल मित्र थाना जिले का एक मात्र कोतवाली परिसर में होगा। इस बाल मित्र थाने के साथ-साथ ऊपरी मंजिल पर उप निरीक्षक, सहायक उप निरीक्षक, प्रधान आरक्षक और बीट प्रभारियों को अपने-अपने काम निपटाने के लिए अलग-अलग टेबल होंगी। इन टेबलों का निर्माण कॉर्पोरेट कल्चर की तर्ज पर हो रहा है। इसके साथ ही महिला प्रकोष्ठ के लिए अलग कक्ष होगा, जहां शिकायत लेकर आईं महिलाएं अपनी खुलकर शिकायतें बता सकेंगी। कोतवाली में हुए निर्माण की खासियत ये है कि कोतवाली की छत वाटर प्रूफ बनवाई गई है।

रिकार्ड ढूंढऩे में होगी आसानी: बताया गया कि कोतवाली में पूर्व में रिकार्ड को लेकर न तो संबंधित प्रभारी गंभीर रहे और न वरिष्ठ अफसर। अब रिकॉर्ड रूम अलग-अलग बनाया गया है, जहां अलग-अलग अपराधों से संबंधित रजिस्टर अलग-अलग वर्षो के मांगते ही उपलब्ध हो जाएंगे। जिससे रिकार्ड ढूंढऩे में परेशानी नहीं होगी। बूढ़े बालाजी क्षेत्र मेें बनेगा नया थाना: कोतवाली से अपराध और जनसं या का दबाव कम करने के उद्देश्य से बूढ़े बालाजी क्षेत्र में एक नया पुलिस थाना खुलेगा। इसका प्रस्ताव स्वीकार होकर आ गया है, जिसमें कोतवाली के लगभग14 मोहल्ले व कॉलोनियां और कैंट पुलिस थाने के लगभग 21 गांव इस नए थाने में शामिल कराने का निर्णय लिया है। संभावना ये है कि इस थाने का शुभारंभ इस साल के अंत तक हो सकता है।

जब्ती वाहनों को किया सिस्टेमेटिक: कोतवाली साफ-सुथरा दिखाई दे, इसके लिए कोतवाली भवन पर साज-सज्जा हो रही है, वहीं बदनुमा दाग ेरूप में कण्डम वाहन जो वहां की शोभा बिगाड़ रहे थे, उसको भी सिस्टेमेटिक तरीके से लगवाया गया है।

यह है प्रयास

आईएसओ में आवेदन करने से पहले कोतवाली और अजाक पुलिस थाने को नया स्वरूप दिलवा रहे हैं। शिकायत लेकर आने वाले को थाना अलग दिखे, यह हमारा प्रयास है। महिलाओं के लिए बैठने की अलग से व्यवस्था की जाएगी।

राहुल लोढ़ा एसपी गुना

[MORE_ADVERTISE2]