स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

वोटर कार्ड है, राशन कार्ड है, आधार कार्ड है फिर भी मूलभूत सुविधाओं से महरूम रहवासी

Narendra Kushwah

Publish: Aug 11, 2019 15:11 PM | Updated: Aug 11, 2019 15:11 PM

Guna

पत्रिका फोकस :
वोटर कार्ड है, राशन कार्ड है, आधार कार्ड है फिर भी मूलभूत सुविधाओं से महरूम रहवासी
वार्ड 27 में 50 साल से निवास कर रहे परिवार को आवास

शौचालय से लेकर पेयजल की सुविधा तक उपलब्ध नहीं
जल निकासी न होने से घरों में भर जाता है पानी

गुना। सरकार mpgovernment की जनहितैषी योजनाओं का उनके मातहत अधिकारी कर्मचारी किस तरह क्रियान्वयन करा रहे हैं, यह जानने के लिए दूरस्थ ग्रामीण अंचल में जाने की जरुरत नहीं है, क्योंकि ऐसा उदाहरण जिला मुख्यालय District Headquarters पर ही मौजूद है। नगर के वार्ड क्रमांक 27 में रेलवे स्टेडियम के पास रहने वाले लोग आज भी मूलभूत सुविधाओं से महरूम बने हुए हैं।

इन लोगों के पास न तो रहने पक्का घर है और न ही शौचालय। जबकि इनके पास वोटर कार्ड से लेकर राशन कार्ड व आधार कार्ड मौजूद है। यह सभी लोग हर चुनाव में वोट भी डालते हैं लेकिन इनकी समस्या का निराकरण आज तक किसी ने नहीं किया।

guna


पानी है सबसे बड़ी समस्या
वार्डवासियों ने बताया कि उनकी सबसे बड़ी समस्या पानी है। एक तरफ जहां उन्हें बारिश के समय में भी पेयजल के लिए परेशान होना पड़ रहा है। वहीं दूसरी ओर बारिश का पानी मुसीबत बना हुआ है। जल निकासी के लिए नाली न बनाए जाने से उनके घरों में बारिश का पानी भर जाता है।


निराकरण नहीं हो सका
दिन हो या रात जब भी तेज बारिश होती है तो पूरे परिवार के सदस्य घरों में भरने वाले पानी को रोकने व फेंकने के काम में जुट जाते हैं। गौर करने वाली बात है कि इस परेशानी से ये लोग बीते काफी समय से परेशान हैं। लेकिन आज तक समस्या का निराकरण नहीं हो सका है।

news in mp

यह बोले लोग
हम इस जमीन पर पिछले 50 साल से रह रहे हैं। हर चुनाव में वोट भी डाल रहे हैें। लेकिन हमें न तो रहने घर मिला है और न ही पानी की कोई व्यवस्था है। हमने किसी तरह निजी पैसे से शौचालय तो बनवा लिया लेकिन पानी की समस्या आड़े आती है। बाकी लोग तो आज भी खुले में जाते हैें।
मेवा बाई, वार्डवासी

NEWS GUNA

हमारे पास बीपीएल राशन कार्ड है। जिससे खाद्यान्न भी मिलता है। लेकिन मेरे बच्चे को आरटीई के तहत निजी स्कूल में दाखिला नहीं मिल सका। नपा से शौचालय बनवाने पैसे भी नहीं मिले हैं। पानी भरने दूर जाना पड़ता है।
नाथू बंशकार, वार्डवासी