स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जिस परिसर का कभी पूर्व मुख्यमंत्री व सांसद ने किया था शिलान्यास अब उसके ये हैं हालात

Narendra Kushwah

Publish: Nov 12, 2019 15:14 PM | Updated: Nov 12, 2019 15:14 PM

Guna

- कलेक्टर के बार-बार निरीक्षण के बाद भी नहीं सुधरी पुरानी गल्ला मंडी की हालत
- सफाई व्यवस्था चारों खाने चित्त
- न शौचालय न पेयजल के इंतजाम, जहां देखो वहां गंदगी
- 2003 में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह एवं तत्कालीन सांसद सिंधिया ने किया था व्यवसायिक परिसर का शिलान्यास
- समस्याओं से परेशान दुकानदार व ग्राहक

गुना. शहर की पुराना गल्ला मंडी परिसर में सफाई व अन्य व्यवस्थाएं सुधरवाने के लिए कलेक्टर बीते एक साल में करीब आधा दर्जन बार इसका निरीक्षण कर चुके हैं। लेकिन आज तक इसकी स्थिति में न तो सुधार आ सका है और न ही शौचालय व पेयजल के कोई इंतजाम हो सके हैें। यही कारण है कि सुविधाओं के अभाव में यहां महंगी दुकानें खरीदने वाले दुकानदार काफी परेशान हैं। कुल मिलाकर परिसर में सफाई व्यवस्था चारों खाने चित्त पड़ी है।

जानकारी के मुुताबिक पुराना गल्ला मंडी परिसर में वर्ष 2003 में तत्कालीन मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, तत्कालीन सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने माधवराव सिंधिया व्यवसायिक परिसर का शिलान्यास किया था। तब से लेकर आज तक यहां मंडी प्रशासन ने शॉपिंग कॉम्पलैक्स बनाकर महंगी महंगी दुकानें तो बेच दीं लेकिन व्यवसायियों व यहां आने वाले ग्राहकों की सुविधा का बिल्कुल भी ख्याल नहीं रखा। पूरे परिसर में न तो सफाई के कोई इंतजाम हैं और न ही शौचालय व पेयजल की समुचित व्यवस्था है।


यहां सफाई नाम की कोई चीज नहीं
पुराना गल्ला मंडी परिसर में सभी तरह की दुकानें हैं इसलिए यहां हर तरह के ग्राहकों की खासी भीड़ रहती है। परिसर के एक हिस्से में सब्जी मंडी संचालित होती है तो एक हिस्से में किसानों से जुड़ी खाद, बीज से लेकर हार्डवेयर की कई दुकानें हैं। यही कारण है कि परिसर के अंदर किसान अपनी टे्रक्टर ट्रॉली लेकर अंदर आता है। उसे जहां जगह दिखती है वहां अव्यवस्थित रूप से वह अपना वाहन पार्क कर देता है। परिसर में कई जगह रेत के फड़ लगे हैं। परिसर में नियमित सफाई न होने से हर तरफ गंदगी बिखरी हुई है। सड़क खुदी पड़ी है जिससे पूरे समय धूल उड़ती रहती है।

नपा ने नहीं रखवाए डस्टबिन
दुकानदारों ने बताया कि पुरानी गल्ला मंडी परिसर में चारो तरफ बिखरी गंदगी की अहम वजह नपा द्वारा यहां डस्टबिन न रखवाना है। क्योंकि सब्जी विक्रेता से लेकर अन्य दुकानदारों को डस्टबिन के अभाव में कचरा खुले में ही फेंकना पड़ता है। जिसे नपा कर्मचारी हर दिन नहीं उठाते हैं। ऐसे में परेशानी दुकानदार व ग्राहकों को ही उठानी पड़ती है।

[MORE_ADVERTISE1]