स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Rescue operation: कर्नलगंज में निकला कबरबिज्जू, पकडऩे ढाई घंटे चला रेस्क्यू ऑपरेशन, जंगल में छोड़ा

Manoj Vishwkarma

Publish: Nov 17, 2019 02:01 AM | Updated: Nov 16, 2019 23:30 PM

Guna

रेस्क्यू आपरेशन: एक बार पिंजरा भी तोड़कर भागा, युवाओं की मदद से दूसरी बार में आया पकड़ में

गुना. शहर के कर्नलगंज में सुमित सक्सेना के मकान में शनिवार को एक कबरबिज्जू आ गया। जिसे देख पूरा परिवार डर गया। वन विभाग को इसकी सूचना दी। विभाग का बचाव दल पहुंचा और ढ़ाई घंटा की मशक्कत करने के बाद मुश्किल से पकड़ में आ सका। कबरबिज्जू को बिलोनिया के जंगल में सुरक्षित छोड़ दिया है।

[MORE_ADVERTISE1]

दरअसल, शनिवार को सुबह करीब १०.३० बजे मकान में कबरबिज्जू आने की जानकारी लगी। परिजनों स्टोर में जाकर देखा तो काले रंग का वन्य जीव दिखा। जिसे देख पूरा परिवार दहशत में आ गया। आस पडौस के लोगों को जानकारी लगी तो वे भी पहुंच गए। इसके बाद वन अमले का सूचना दी। मौके पर वन अमला पहुंचा। करीब ११ बजे के बाद उसे पकडऩे आपरेशन शुरू किया। ढाई घंटा तक पूरा अमला परेशान हुआ। तब जाकर पिंजरे में कैद हुआ। लेकिन नुकीले दांतों की वजह से वह पिंजरा को भी काटकर भाग गया। इसके बाद वह मकान में ऐसी जगह छिप जाता, जहां से उसे पकडऩा मुश्किल हो गया। इसके बाद फिर कोशिश की और करीब आधा घंटा और मेहनत करने के बाद पकड़ में आया। उसे पकडऩे के बाद देखने के लिए भी लोगों की भीड़ लग गई। ट्रैक्टर की मदद से कबरबिज्जू को विलोनिया के जंगल गए और वहां छोड़ दिया है।

आखिर पिंजरे में फंस गया कबरबिज्जू

करीब ढ़ाई घंटा में कबरबिज्जू दूसरी बार पिंजरे में कैद हुआ तो पिंजरे को दरी से ढंक दिया। इसके बाद देखने वालों का तांता लग गया। कई लोग लाठी और डंडे लेकर पहुंचे। लेकिन कुछ युवाओं ने उसे फांसने के लिए फंदा बनाया। इससे वह आसानी से पकड़ा गया। इसके बाद सक्सेना परिवार सहित मोहल्ले में कबरबिज्जू की दहशत कम हो पाई।

हे राम! अपने बसकी बात नहीं

रेस्क्यू आपरेशन में विभाग की कमी भी सामने आईं। डिप्टी रेंजर रघुवंशी भी कबरबिज्जू को पकडऩे पहुंचे, लेकिन वे पकडऩे की वजह घर के आगे जाकर बैठ गए। नजारा देखने ऐसा लगा कि हे राम! कबरबिज्जू को पकडऩे अपनी बस की बात नहीं। रैंजर सुधीर शर्मा ने बताया, उनके पैर में प्लेट डली हुई हैं। वन अमले ने लोगों की मदद से कब्र बिज्जू पकड़ लिया है।

[MORE_ADVERTISE2]