स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

महंगाई की मार: तीन माह में ही हो गए प्याज के दाम दोगुने

Narendra Kushwah

Publish: Nov 12, 2019 15:20 PM | Updated: Nov 12, 2019 15:20 PM

Guna

- जमाखोरी में कोल्ड स्टोरेज का होता है इस्तेमाल

- 3 माह पहले 40 रुपए किलो बिकने वाली प्याज के दाम 80 पर पहुंचे

गुना. घरेलू रसोई गैस की कीमतें बढऩे के बाद अब इसका असर स्वाद पर भी पडऩे लगा है। क्योंकि व्यापारियों की जमाखोरी ने सब्जियों से लेकर फलों के दाम तक बढ़ा दिए हैं। जिसका सबसे ज्यादा असर मध्यम वर्गीय लोगों पर पड़ रहा है।

जनता रसोई गैस की बढ़ती कीमतों से तो पहले से ही परेशान थी, ऐसे में सब्जियों के दाम ने घर का पूरा बजट बिगाड़ दिया है। मौसमी फल हों या सब्जियां इनके दामों में बढ़ोत्तरी हुई है। जिन सब्जियों के दामों में बढ़ोत्तरी हुई है इनमें प्याज, अदरक, गोभी, लहसून शामिल है। जिसके कारण निम्न वर्ग हरी सब्जियों से दूर होता जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक बीते काफी समय से सब्जी व फलों के दामों में आए उतार चढ़ाव को लेकर जब इनके विक्रेताओं से बातचीत की गई तो सामने आया कि मांग और आपूर्ति गड़बड़ाने की वजह दामों में इजाफा होता है।

यह गड़बड़ी आने के पीछे व्यापारियों का अहम रोल रहता है। क्योंंकि जो सब्जियां स्थानीय स्तर पर उपलब्ध हो जाती हैं और सीधे मार्केट में बिक्री के लिए चली जाती हैं उनका भाव तो स्थिर रहता है लेकिन जो सब्जियां व फल बड़े व्यापारियों के माध्यम से फुटकर विक्रेताओं के पास आती हैं, उनका भाव बढ़ जाता है।

शास्त्री पार्क स्थित सब्जी मंडी में वर्षों से सब्जी बेचने वाले एक दुकानदार ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि जो प्याज तीन माह पहले 40 रुपए किलो बाजार में बिक रही थी उसका रेट अब 80 रुपए किलो हो गया है। इसी तरह लहसून 240 रुपए, अदरक व धनिया 100 रुपए किलो बिक रहा है।

जमाखोरी में कोल्ड स्टोरेज का होता है इस्तेमाल
शहर के अधिकांश व्यापारियों के पास कोल्ड स्टोरेज की व्यवस्था है। यही कारण है कि यह व्यापारी बाहर से मंगाए गए माल को कोल्ड स्टोरेज में कई दिनों तक रखे रहते हैं। जिससे बाजार में उक्त माल का अभाव हो जाता है और उसकी रेट बढ़ जाती है। इसी दौरान व्यापारी अपना माल विक्रेताओं को उपलब्ध कराते हंै। जिससे एक ओर जहां व्यापारियों का फायदा होता है वहीं उपभोक्ताओं पर इसका विपरीत असर पड़ता है।

सब्जी : भाव 
प्याज : 80
टमाटर  : 40
अदरक  : 100
फूल गोभी : 60
हरी मिर्च  : 60
बंद गोभी : 50
धनिया : 150
आलू  : 60
लौकी : 40
लहसून : 240

फल : भाव 
सेव : 100
केला : 30
अनार : 100
पाइनेप्पल : 50
सीताफल : 60
पपीता : 50
नोट: सभी भाव रुपए प्रति किलो में हैं।

[MORE_ADVERTISE1]