स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पत्रिका मुद्दा : गुना शहरवासियों को कब मिलेगी जाम से निजात

Narendra Kushwah

Publish: Jul 20, 2019 17:09 PM | Updated: Jul 20, 2019 17:09 PM

Guna

पत्रिका मुद्दा : गुना शहरवासियों को कब मिलेगी जाम से निजात
अफसर बदले नहीं बदली तो यातायात व्यवस्था
एक साल में आधा दर्जन बैठकें, नतीजा शून्य
न पार्किंग व्यवस्था बनी न हटे अतिक्रमण
कैसे सुधरे यातायात व्यवस्था

गुना. मौजूदा समय में शहरवासियों की सबसे बड़ी समस्या हर दिन लगने वाला जाम हो गया है। क्योंकि समय के साथ शहर का विस्तार होता गया और वाहनों की संख्या भी बढ़ती चली गई। लेकिन इस हिसाब से शहर की टे्रफिक traffic व्यवस्था को दुरुस्त नहीं किया गया। यही कारण है कि आज जिस सड़क से होकर जाओ वहां हर समय जाम की स्थिति निर्मित हो जाती है। आए दिन जनता परेशान people upset होती है लेकिन इस समस्या को दूर करने के प्रति न तो जनप्रतिनिधि चिंतित हैं और न ही अधिकारी गंभीर। यही कारण है कि बीते एक साल में आधा दर्जन बार नपा व ट्रेफिक पुलिस के अधिकारियों के साथ प्रशासन ने मीटिंग की। लेकिन नतीजा आज तक सिफर ही रहा है।

guna

निर्देशों पर आज तक अमल नहीं
बीते एक साल में हुई बैठकों में अधिकारियों ने अपने अधिनस्थ अमले को कई बार दिशा निर्देशित किया लेकिन इन पर अमल आज तक नहीं हो सका है। जैसे पार्किंग स्थल बनाए जाने को लेकर कोतवाली रोड स्थित बापू पार्क तथा हाट रोड पर पशुचिकित्सालय परिसर की जमीन को चिन्हित किया गया। नगर पालिका ने इन स्थानों पर पेड (शुल्क) पार्किंग बनाए जाने की बात रखी। लेकिन इन दोनों ही निर्देशों पर आज तक क्रियान्वयन नहीं हो सका है। नतीजतन जहां देखो वहां सड़क किनारे वाहन पार्क हो रहे हैं।

 


नपा व टे्रफिक में समन्वयक की कमी
शहर की बदहाल होती जा रही टे्रफिक व्यवस्था को दुरुस्त करने में नपा व टे्रफिक पुलिस का अहम योगदान जरूरी है। लेकिन दोनों ही विभाग में समन्वय की कमी के चलते यह समस्या नासूर बनती जा रही है। नपा सड़क से न तो अतिक्रमण हटा रही है और न ही आवारा जानवर। वहीं टे्रफिक पुलिस आए दिन जगह जगह प्वाइंट लगाकर ट्रैफिक नियम तोडऩे वालों का चालान काटकर अपने अपने कर्तव्य की इतिश्री समझ रहे हैं।
-

 

 

ट्रेफिक समस्या की ये हैं प्रमुख वजह
- शहर में कहीं भी वाहन पार्किग स्थल नहीं है।
- अधिकांश बैंक सड़क किनारे ही हैं। जिनके पास पार्किंग सुविधा नहीं है। इसलिए सड़क किनारे ही वाहन पार्क होते हैं।
- शहर में बने बेसमेंटों को उपयोग पार्किंग की वजाय व्यवसायिक उपयोग में हो रहा है।
- एबी रोड सहित शहर के मुख्य मार्गों के दोनों आेर कच्चा व पक्का अतिक्रमण हो गया है। जिससे मार्ग संकरे हो गए हैं।
- शिवपुरी व अशोकनगर से आने वाले भारी वाहनों को निकलने बायपास मार्ग नहीं है। इसलिए यात्री बसों से लेकर ट्रक, डंपर व बड़े लोडिंग वाहन शहर के बीचों बीच हनुमान चौराहा व कैंट रोड से होकर गुजरते हैं। ये वाहन न सिर्फ शहर की टे्रफिक व्यवस्था को बिगाड़ रहे हैं बल्कि गंभीर दुर्घटना का सबब भी बन सकते हैं।

jaam

विस से लेकर लोकसभा चुनाव में भी उठा चुका है मुद्दा
शहर में बढ़ती जा रही भारी वाहनों की आवाजाही को सिर्फ रिंग रोड निर्माण से ही रोका जा सकता है। जिसकी मांग बीते वर्षों से आज तक चली आ रही है। हाल ही में शहर के जागरुक ग्रुप के सदस्य एक पत्र सांसद डॉ केपी यादव को भी भेज चुके हैं। जिसके जवाब में उन्होंने प्रस्ताव बनाकर भेजने की बात कही है। इसके अलावा बीते विधानसभा व लोकसभा चुनाव में रिंग रोड निर्माण का मुद्दा उठा था। लेकिन यह यब अभी सिर्फ कागजों में ही चल रहा है।
-
ऐसे मिल सकती है समस्या से निजात
प्रस्तावित रिंग रोड में ग्राम विलोनिया, पिपरिया, सिंगवासा, मावन, खेजरा, मालपुर, विनायकखेड़ी, हड्डी मिल, बजरंगगढ़, बायपास, चिंताहरण, एबी रोड बायपास से विलोनिया तक रोड बना हुआ है। उत्तर पश्चिम में एबी रोड बायपास बना हुआ है। यहां सिर्फ बोर्ड लगाकर घोषित करना है। इसी तरह पश्चिम दक्षिण में बजरंगगढ़ बायपास बना हुआ है। दक्षिण पूर्व में मावन, खेजरा, मालपुर, विनायकखेड़ी, हड्डी मिल बना हुआ है। पूर्व उत्तर में सिंगवासा से नई सराय रोड बना हुआ है। कुल मिलाकर चिन्हित स्थानों पर सिर्फ बोर्ड लगाकर घोषित करना है तथा जहां मार्ग ठीक नहीं है उसे दुरुस्त करवाना है।

यह बोले जिम्मेदार
वास्तव में शहरवासियों के लिए टे्रफिक बड़ा इश्यू है। इसे लेकर हम गंभीरता से काम कर रहे हैं। हाल ही में हमने शहर के व्यस्तम इलाके जैसे नई सड़क, सदर बाजार, कोतवाली रोड पर वन-वे किया है ताकि ट्रेफिक डायवर्ट हो सके और वाहन चालक अपने वाहन बापू पार्क में पार्क करेें। इसी तरह तेलघानी व भगत सिंह चौराहा पर टे्रफिक सिग्नल लगाए जाने की मांग हम आगामी सड़क सुरक्षा बैठक में रखेंगे। इसके अलावा शिवपुरी व अशोकनगर की ओर से आने वाले भारी वाहनों को डायवर्ट करने रिंग रोड की मांग कलेक्टर के समक्ष रखी जाएगी। क्योंकि यह सबसे बड़ा इश्यु है।
दीपक साहू, यातायात प्रभारी जिला यातायात पुलिस