स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

5 हजार रुपये के लिए पंचायत सचिव ने जीते जी महिला को मार दिया, डेथ सर्टिफिकेट जारी कर सरकारी योजनाओं से हटाया नाम

Muneshwar Kumar

Publish: Oct 11, 2019 18:45 PM | Updated: Oct 11, 2019 18:48 PM

Guna

डेथ सर्टिफिकेट देख महिला अधिकारियों से पूछी- मैं जिंदा हूं या मर गई

गुना/ मध्यप्रदेश में रिश्वतखोरी का एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहां एक पंचायत सचिव ने बुजुर्ग महिला को जीते जी मार दिया है। वो भी इसलिए कि महिला ने पंचायत सचिव के द्वारा मांगी जा रही पांच हजार रुपये की रिश्वत नहीं दी। पंचायत सचिव ने भी उसके नाम डेथ सर्टिफिकेट इश्यू कर दिया। साथ ही प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभुकों में से उसका नाम हटा दिया और किसी और का नाम जोड़ दिया।

अपने नाम से डेथ सर्टिफिकेट जारी होने के बाद महिला अब चीख-चीख कर कह रही है कि मैं जीवित हूं। यह मामला गुना जिले चाचौड़ा जनपद के राम नगर ग्राम पंचायत की है। जहां रिश्वतखोर पंचायत सचिव की 84 वर्षीय शांति बाई मीना को खामियाजा उठाना पड़ रहा है। साथ ही अब उसे सरकारी दफ्तरों के दर पर जाकर यह बताना पड़ रहा है कि मैं जीवित हूं।

पांच हजार रुपये मांगी थी रिश्वत
84 वर्षीय शांति बाई मीना का आरोप है कि उसने पंचायत सचिव राजेंद्र सिंह को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर लेने के लिए आवेदन दिया था। बुजुर्ग महिला का आरोप है कि इसके एवज में पंचायत सचिव पांच हजार रुपये की मांग की। लेकिन जब मैं रिश्वत नहीं दी तो उसने डेथ सर्टिफिकेट जारी कर दिया। साथ ही इस योजना के लाभुकों की सूची से मेरा नाम हटाकर किसी और का जोड़ दिया।

08.png

मैं जिंदा हूं या मर गई
शांति बाई को जैसी ही इस बात की जानकारी मिली तो जारी डेथ सर्टिफिकेट को लेकर जनपद ऑफिस पहुंच गई। वहां मौजूद अधिकारियों से पूछी कि मैं जिंदा हूं या मर गई, इस पर अफसरों ने कोई जवाब नहीं दिया। वहीं, मीडिया के सवालों से भी अधिकारी बचते रहे। महिला को वर्तमान में सरकार की कल्याणी योजना के तहत पेंशन भी मिल रही है। उसके बाद उशके फर्जी डेथ सर्टिफिकेट जारी कर दिया गया है।

कार्रवाई की तैयारी
वहीं, बताया जा रहा है कि अधिकारी भले ही इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं, लेकिन आरोपी पंचायत सचिव के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी है। इसे प्रकरण को लेकर उसे शोकॉज नोटिस जारी किया गया है। मीडिया से बात करते हुए आरोपी पंचायत सचिव ने कहा है कि मैं इसमें निर्दोष हूं और यह सरपंच की साजिश हो सकती है।