स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गुना शहर के मुख्य बाजार में नहीं हैं फायर सेफ्टी इंतजाम

Narendra Kushwah

Publish: Oct 20, 2019 12:16 PM | Updated: Oct 20, 2019 12:16 PM

Guna

पत्रिका अलर्ट :
रिहायशी व घनी आबादी वाले क्षेत्र में है मुख्य बाजार
दीपावली के चलते बाजार में बढ़ा अस्थायी अतिक्रमण
जरुरत पडऩे पर बाजार में प्रवेश नहीं कर पाएगी फायर बिग्रेड

गुना। दीपावली त्यौहार को लेकर शहर का बाजार सज चुका है। नगर की हर छोटी बड़ी गली में विभिन्न सामानों की दुकानें लग गई हैं। यही नहीं मुख्य मार्गों के दोनों ओर अस्थायी हाथ ठेले व गुमठियां रखी हो गई हैं। ऐसे में सबसे बड़ी चिंता फायर सेफ्टी के इंतजामों को लेकर है। लेकिन इस ओर अब तक स्थानीय प्रशासन ने कोई ध्यान नहीं दिया है।


ऐसी स्थिति में यदि भीड़ वाले इलाके में आगजनी की घटना होती है तो फायर बिग्रेड को आग पर काबू पाना काफी मुश्किल हो जाएगा। क्योंकि इन दिनों मुख्य बाजार में जिस तरह से अस्थायी दुकानें लगाई गई हैं उसके कारण फायर बिग्रेड मुख्य बाजार में प्रवेश ही नहीं कर पाएगी।

गुना शहर के मुख्य बाजार में नहीं हैं फायर सेफ्टी इंतजाम

दुकान व बड़े बड़े शोमरूम भी संचालित हैं

जानकारी के मुताबिक गुना शहर का मुख्य बाजार घनी आबादी वाले क्षेत्र में है। जहां लोग अपने घरों में भी रहते हैं और उसी भवन में दुकान व बड़े बड़े शोमरूम भी संचालित हैं। पूरे बाजार में कहीं भी अलग स्थान पर पार्किंग व्यवस्था न होने से ग्राहकों के दो व चार पहिया वाहन भी इन गलियों में पार्क होते हैं। ऐसे में पहले से संकरी गलियां और ज्यादा संकरी हो जाती हैें। कुल मिलाकर दिन में यह स्थिति रहती है कि दो पहिया वाहन तो क्या पैदल सिंगल व्यक्ति भी आसानी से नहीं निकल पाता है।


निर्देश सिर्फ बैठकों तक धरातल पर कुछ नहीं
इन क्षेत्रों में फायर बिग्रेड का पहुंचना मुश्किल है। फायर सेफ्टी के इंतजामों को लेकर प्रशासन द्वारा बैठकों में समय समय दिशा निर्देश जारी किए जाते हैं। जिसकी जमीनी हकीकत जानने के लिए पत्रिका टीम ने शहर के मेन मार्केट में जाकर पड़ताल की। जिसमें सामने आया कि इस समय मुख्य बाजार के अलावा गली मोहल्लों से लेकर सड़क के दोनों ओर जिस तरह अस्त व्यस्त तरीके से दुकानें लगी है।

अंदर ही प्रवेश नहीं कर पाएगी
ऐसे में यदि दुर्घटनावश यदि आगजनी की घटना होती है तो उस पर काबू पाना काफी मुश्किल होगा क्योंकि भीड़ वाले इलाके में फायर बिग्रेड अंदर ही प्रवेश नहीं कर पाएगी। शहर के मुख्य बाजार में प्रवेश करने के लिए मुख्य दो रास्ते हैं पहला हाट रोड, दूसरा कोतवाली रोड। लेकिन इस समय दोनों ही मार्गों पर इतना अतिक्रमण और ट्रैफिक है कि फायर बिग्रेड आग बुझाने मुख्य बाजार में जा ही नहीं पाएगी।


फायर बिग्रेड का यहां से निकलना मुश्किल
शहर के हाट रोड, सदर बाजारा, सराफा बाजार, निचला बाजार, शुगन चौराहा, अनुराधा, गली, हनुमान गली, मुरलीधोकल गली, सत्यनारायण मंदिर, बोहरा मस्जिद रोड आदि क्षेत्रों में फायर बिग्रेड का निकलना मुश्किल है।

संसाधनों की कमी से जूझ रहा फायर स्टाफ
जिला मुख्यालय पर फायर विग्रेड यूनिट में कुल 12 लोगों का स्टाफ है। जो ड्यूटी चार्ट के अनुसार 24 घंटे आपातकालीन सेवाएं देने के लिए अलर्ट रहता है। लेकिन इनमें से एक भी कर्मचारी के पास बीते एक साल से न तो यूनिफार्म है और न ही आग बुझाने के दौरान आवश्यक संसाधन। गौर करने वाली बात है कि पूरा स्टाफ इन कमियों से बीते एक साल से जूझ रहा है लेकिन उनकी कहीं सुनवाई नहीं हो रही है।

 

यहां बता दें कि फायर स्टाफ को आग बुझाने के दौरान यूनिफार्म में होना बेहद जरूरी है, क्योंकि आगजनी के दौरान मौके पर मौजूद भीड़ फायर स्टाफ को नहीं पहचान पाती और उसे ही धकिया देती है। वहीं आग बुझाने के दौरान जरूरी संसाधनों की बात करें तो वॉकी टॉकी एक ऐसा उपकरण है जो स्टाफ के लिए बेहद जरूरी है। क्योंकि यही उपकरण फायर बिग्रेड के चालक व फायर मेन के बीच संवाद स्थापित करता है जिसके माध्यम से ही चालक को पता चल पाता है कि कब उसे कितना पानी का प्रेशर देना है। खासतौर पर बहुमंजिला बिल्डिंग में आग बुझाने के दौरान वॉकी टॉकी का होना बेहद जरूरी है। इसके डीजल, पेट्रोल व ऑयल में लगी आग को बुझाने के दौरान मास्क का होना भी बेहद जरूरी है। क्योंकि यही एक उपकरण है जो फायर स्टाफ को धुएं से बचाता है तब जाकर वह पूरे ऑपरेशन को अंजाम दे पाता है।

यह बोले जिम्मेदार
अभी तक तो शहर के मेन मार्केट में आगजनी की कोई घटना नहीं हुई है। फिर भी आगजनी की घटना से निपटने हमारी फायर बिग्रेड कंट्रोल रूम में मौजूद रहती है। बाजार में रखने कहीं जगह नहीं है। स्टाफ की ड्रेस व अन्य संसाधनों के लिए ऑर्डर कर दिए हैं।
संजय श्रीवास्तव, सीएमओ नगर पालिका गुना