स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यहां उपभोक्ताओं को 15 किमी दूर से लेने आना पड़ता है राशन

Manoj Vishwkarma

Publish: Sep 16, 2019 02:02 AM | Updated: Sep 15, 2019 23:43 PM

Guna

वाहन सुविधा न होने से राशन ले जाने में आती है दिक्कत

गुना. शहर के रेलवे स्टेशन रोड स्थित पीडीएस दुकान के हजारों उपभोक्ताओं को इस दुकान से राशन लेना बहुत महंगा पड़ रहा है। क्योंकि उनके घर से दुकान की दूरी इतनी ज्यादा है कि राशन घर तक लाने में ही उनका काफी पैसा खर्च हो जाता है। वहीं राशन लेने के लिए घंटों लंबी लाइन में खड़े होकर इंतजार करने की परेशानी अलग है। हजारों उपभोक्ता इस तरह की परेशानी बीते काफी समय से झेल रहे हैं लेकिन उनकी परेशानी कम करने को लेकर अब तक किसी भी अधिकारी या जनप्रतिनिधि ने कोई कदम नहीं उठाया है।

दरअसल, गुना तहसील अंतर्गत आने वाली पांच पंचायतों के करीब 4 हजार उपभोक्ताओं को राशन दिया जाता है। लेकिन इस दुकान से सभी पंचायतों की दूरी काफी ज्यादा है। जो उपभोक्ताओं के लिए न सिर्फ आर्थिक रूप से कष्टदायक है बल्कि उपभोक्ताओं को एक दिन की मजदूरी तक छोड़कर राशन लेने आने पड़ता है। उपभोक्ताओं ने बताया कि रेलवे स्टेशन मार्ग पर यह पीडीएस दुकान बीते कई सालों से चल रही है। इससे पहले यह दुकान पुरानी गल्ला मंडी में संचालित थी लेकिन वहां पर्याप्त जगह न होने के कारण दुकान को यहां शिफ्ट कर दिया गया है। इससे दुकान संचालक को तो लाभ हुआ है लेकिन उपभोक्ताओं की परेशानी जस की तस बनी हुई है। इस मामले में कनिष्ट आपूर्ति अधिकारी जगदीप सिंह ने बताया, इस दुकान को लेकर संचालक ने कोर्ट से स्टे ले रखा है। जब तक इसका निराकरण नहीं हो जाता, तब तक कुछ नहीं कर सकते।

उपभोक्ताओं को यह आ रही परेशानियां

पीडीएस दुकान पर पीओएस मशीन के जरिए ऑनलाइन राशन का वितरण महीने की 15 तारीख तक ही होता है। इसके बाद स्वत: मशीन ऑफ लाइन हो जाती है। गौर करने वाली है कि रेलवे स्टेशन रोड स्थित पीडीएस दुकान पर कुल उपभोक्ताओं की सख्ंया 4 हजार से अधिक है। यहां आसपास की 5 पंचायतों में रहने वाले उपभोक्ता राशन लेने आते हैं। एक तरफ जहां उपभोक्ताओं की संख्या काफी ज्यादा होने की वजह से लोगों को घंटों लंबी लाइन में लगना पड़ता है। वहीं निर्धारित दिनांक तक खाद्यान्न भी पीडीएस दुकान तक नहीं पहुंच पाता है। जिसकी वजह से राशन वितरण में भी देरी हो जाती है। ऐसे में उपभोक्ताओं को काफी ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है।

15 किमी दूर है पिपरौदा चक्क गांव

लोगों ने बताया कि इस कंट्रोल की दुकान से पांच पंचायतों के ग्रामीण राशन लेने आते हैं। इनमें पिपरौदा चक्क गांव की सबसे ज्यादा 15 किमी दूरी है। वहीं खेजरा, पिपरौदाखुर्द, मालपुर, पिपरौदा सहित अन्य गांव की दूरी 5 से 10 किमी के बीच है। अधिकांश गरीब उपभोक्ताओं के पास आवागमन के साधन नहीं है ऐसे में उन्हें मिलने वाला राशन बहुत महंगा पड़ता है। क्योंकि वे यदि ऑटो में रखकर राशन ले जाते हैं तो उसका किराया ही बहुत हो जाता है।

इनका कहना है

हमारे गांव से राशन की दुकान की दूरी करीब 15 किमी पड़ती है। बाइक से राशन ले जाने में परेशानी आती है। ऑटो से ले जाएं तो किराया बहुत लगता है। कुल मिलाकर यहां से राशन ले जाना बहुत महंगा साबित होता है।

श्यामनारायण, पिपरौदा चक्क

पांचों पंचायत से इस राशन की दुकान की दूरी बहुत अधिक है। घर तक राशन ले जाने में ही काफी पैसा खर्च हो जाता है इसलिए अधिकांश उपभोक्ता तो अपना राशन लेकर यहीं बेच जाते हैं। गांव में ही कंट्रोल की दुकान खुलनी चाहिए। ताकि लोगों की समस्या दूर सके।

लखन अहिरवार, मालपुर