स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कलेक्टर का नपा पर छापा, सफाई और नामांतरण को लेकर ली जमकर क्लास

Manoj Vishwkarma

Publish: Nov 05, 2019 02:03 AM | Updated: Nov 04, 2019 23:53 PM

Guna

नामांतरण शाखा के बाबू भार्गव को सस्पेंड करने के निर्देश

गुना. जिला कलेक्टर भास्कर लाक्षाकार न तो सीएमओ की कार्यशैली से खुश हैं और न नगर पालिका की व्यवस्थाओं से। वे लगातार नगर पालिका में छापामार कार्रवाई कर कामों का बारीकी निरीक्षण कर रहे हैं, व्यवस्थाएं सुधारने के निर्देश दे रहे हैं, इसके बाद भी वहां की व्यवस्थाएं सुधरने को तैयार नहीं हैं।

[MORE_ADVERTISE1]

सोमवार को एक बार फिर कलेक्टर लाक्षाकार नगर पालिका पहुंचे तो उन्हें पूर्व में दिए गए निर्देशों का पालन न करने पर संबंधित अफसर और कर्मियों के प्रति नाराजगी ही जाहिर नहीं की बल्कि नामांतरण शाखा में कार्यरत कर्मचारी राकेश भार्गव को निर्वाचन कार्य में लगाने के बाद निलंबित करने के निर्देश दिए। शहर की साफ-सफाई व्यवस्था से काफी खिन्न दिखाई दिए।उन्होंने आखिर में यहां तक कह दिया कि गुना नगर पालिका का ढर्रा कभी नहीं सुधर सकता। कलेक्टर ने डिप्टी कलेक्टर सोनम जैन को फिलहाल नगर पालिका की जि मेदारी देकर कहा कि आप सारा काम देखें और व्यवस्थाएं सुधरवाएं।

इससे तय हो गया कि जल्द ही सीएमओ संजय श्रीवास्तव की नगर पालिका से छुट्टी हो सकती है। सोमवार को दोपहर डेढ़ बजे करीब कलेक्टर भास्कर लाक्षाकार नगर पालिका भवन पहुंचे, वहां सीएमओ के कक्ष में डिप्टी कलेक्टर सोनम जैन बैठी मिलीं। यहां पहुंचते ही उन्होंने शहर की साफ-सफाई को लेकर प्र ाारी स्वास्थ्य अधिकारी हरीश शाक्यवार, टाइम कीपर दीपक शर्मा, उपयंत्री आदि से एक साथ पूछी। न तो इन अधिकारियों के पास गीला-सूखा कचरा एकत्रित करने, वाहनों में जीपीएस सिस्टम होने, ट्रेचिंग ग्राउन्ड तक वाहन पहुंचने, कचरा डिब्बा उठाने के लिए 28 लाख रुपए की मशीनरी का उपयोग न किए जाने,कचरे के डिब्बे जलाए जाने,कचरा डिब्बा होने के बाद कचरा जमीन पर पड़े होने आदि के बारे में पूछे जाने पर कोई जवाब तक इनके पास नहीं था। कलेक्टर ने गायब सफाई कर्मियों पर कार्रवाई के बारे में पूछा तो यह अधिकारी जवाब देने की बजाय बगलें झांकने लगे। टेण्डर होने के बाद भी कार्यादेश जारी न करने संबंधी कलेक्टर के सवाल पर अधिकारियों के पास कोई जवाब नहीं था।

नामांतरण न होने पर कर्मचारी को किया शंट

कलेक्टर जब सीएमओ के कक्ष में बैठे अधिकारियों की क्लास ले रहे थे, इसी बीच अब्दुल रहमान अपने नामांतरण मामले को लेकर कलेक्टर के पास पहुंच गए। नामांतरण के आवेदन पर आपत्ति का निराकरण होने के बाद फिर आपत्ति लगाने को देखकर गुस्से में लाल हो गए उन्होंने यहां तक कह दिया कि नगर पालिका का ढर्रा नहीं सुधर सकता। नामांकन को लेकर कर्मचारी राकेश भार्गव और पटेरिया की जमकर क्लास लगाई। नगर पालिका में कलेक्टर लगभग डेढ़ घंटे रहे, वे कई बार अफसरों पर जमकर बरसे और यहां तक बोल गए कि मेरा वीपी बढ़ सकता है, पर तुम लोग नहीं सुधर सकते।

[MORE_ADVERTISE2]