स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दूध, पनीर में मिलावट कर बेच रहे थे, हर चौथा सैम्पल निकला फेल

Manoj Vishwkarma

Publish: Sep 13, 2019 02:00 AM | Updated: Sep 12, 2019 23:39 PM

Guna

मिलावट के खिलाफ अभियान: प्रशासन और खाद्य औषधि अधिकारियों ने जिलेभर से भरे थे 60 सैम्पल

गुना. गुना. दूध, दही और पनीर में मिलावट करने वालों के खिलाफ जुलाई-अगस्त में प्रशासन द्वारा कार्रवाई की गई थी। मिलावट के विरुद्ध ६० सैम् पल भरे गए थे, इनमें से २५ की रिर्पाेर्ट आ चुकी हैं। इनमें से दूध, दही के ७ नमूने फेल निकले हैं और एक टोस्ट का मामला मिथ्याछाप पाया गया।

उधर, एक डेयरी संचालक प्रेमनारायण ग्वाल पर रासुका लगा दी है। दूध, दही के जो से पल फेल हुए हैं, वे सभी नामी-गिरानी डेयरियों से भरे गए थे। नमकीन के नमूनों की जांच रिपोर्ट आना अभी शेष है। उल्लेखनीय है कि एसडीएम शिवानी गर्ग और खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की टीम ने गुना शहर में सैम्पल भरने की कार्रवाई की थी। इसी तरह आरोन, कुंभराज, राघौगढ़ और बीनागंज में भी कार्रवाई की गई थी। विभाग ने एक जुलाई से १० सितंबर के बीच ७८ नमूने भरे, इनमें से २५ की रिपोर्ट सामने आई है, जिनमें से ७ अमानक, १७ मानक और एक मिथ्याछाप निकला है। रिपोर्ट आने के बाद केस एडीएम कोर्ट में लगाने की तैयारी चल रही है।

इन पर जल्द ही गिर सकती है गाज

खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग के अनुसार जिन नमूनों की रिपोर्ट आए हैं। उनमें शुभम डेयरी, ममता डेयरी लक्ष्मीगंज, न्यू कृष्णा डेयरी बोहरा मस्जिद और फतेहगढ़ का टोस्ट का नमूना फेल हो गया है। अभी ५० से अधिक नमूनों की रिपोर्ट आना शेष है। मिलावटी सामग्री का आंकड़ा काफी बढ़ सकता है।

यहां कार्रवाई पहले बहा दिया था दूध

उल्लेखनीय है कि एसडीएम द्वारा शहर में ६ बड़े प्रतिष्ठानों पर कार्रवाई की थी। टीम जैसे ही शुभम डेयरी पर पहुंची तो उससे पहले ही डेयरी संचालक ने नालियों में दूध बहा दिया था। इससे डेयरी पर ज्यादा संदेह हुआ और यहां से दूध के सै पल भरे गए थे। इस दूध में मिलावट पाई गई।

बैठक में कार्रवाई के मिले निर्देश

उधर, स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने खाद्य सुरक्षा अधिकारियों को सख्त हिदायत दी है। उन्होंने भोपाल में बैठक रखी, जिसमें गुना से खाद्य सुरक्षा अधिकारी मनोज रघुवंशी और किरण सेंगर शामिल हुए। जिनको कार्रवाई करने के निर्देश मिले हैं। अनसेफ पाए जाने पर रासुका लगवाने के निर्देश दिए हैं। उल्लेखनीय है कि शुरुआत में पूरे प्रदेश में कार्रवाई चल रही थी, पर कुछ समय से कार्रवाई थमी हुई थी। बैठक के बाद कार्रवाई में तेजी आ सकती है।

इनका कहना है

जिनके सै पल फेल हुए हैं, उन पर एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। मिलावट के मामले में प्रेमनारायण ग्वाल पर रासुका लगा दी है। रिपोर्ट आने पर कुछ मामले में एडीएम कोर्ट और कुछ जेएमएफसी कोर्ट में चलेंगे। दोनों तरह के मामलों में कार्रवाई की जाएगी।

भास्कर लाक्षाकार, कलेक्टर