स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Power performance: किसानों के नाम पर भाजपा और कांग्रेस ने किया शक्ति प्रदर्शन, नहीं जुटा पाए भीड़

Manoj Vishwkarma

Publish: Nov 05, 2019 02:02 AM | Updated: Nov 04, 2019 23:42 PM

Guna

कांग्रेस संगठन के निर्देश के बाद भी न आईं प्रभारी मंत्री और न विधायक

गुना. भाजपा ने किसानों की स्थिति और समस्याओं को लेकर नगर पालिका मुख्यालय के सामने धरना दिया। इसके बाद रैली के रूप में कलेक्टे्रेट पहुंचे, जहां उन्होंने आंदोलन के लिए भोपाल से आए प्रभारी पूर्व विधायक धु्रव नारायण सिंह व क्षेत्रीय सांसद डॉ.केपी यादव के नेतृत्व में राज्यपाल के नाम संबोधित ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर आरबी सिण्डोस्कर को सौंपा। वहीं दूसरी और कांग्रेस ने हनुमान चौराहे से एक रैली निकालकर पुरानी कलेक्ट्रेट पहुंचे वहां उन्होंने राष्ट्रपति के नाम एसडीएम शिवानी रायकवार को ज्ञापन सौंपा।

[MORE_ADVERTISE1]

खास बात ये रही कि भाजपा जिले भर में मंडलों की बैठक के बाद भी सात सौ कार्यकर्ता भी नहींं जुटा पाई। जबकि भाजपा के जिलाध्यक्ष ने हर मंडल को दो सौ का टारगेट दिया था। यही स्थिति कांग्रेस की रैली में देखने को मिली कि सत्ता में होने के बाद भी पांच दर्जन नेता और कार्यकर्ता भी एकत्रित नहीं हो पाए। कांग्र्रेस संगठन के निर्देश के बाद भी कांगे्रेस के ज्ञापन सौंपने के आंदोलन में न तो प्रभारी मंत्री शामिल हुईं और न ही जिले की दूसरी विधानसभाओं के विधायक या मंत्री।

भाजपा ने कर्ज माफी पर प्रदेश सरकार को कोसा

भाजपा ने किसानों कर्जा माफी न होने आदि को लेकर प्रदेश भर मेें कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन करने का निर्णय लिया था। इसके तहत भाजपा नेता एवं कार्यकर्ता सोमवार को सुबह 11 बजे करीब हाट रोड स्थित भाजपा के जिला कार्यालय के सामने व नगर पालिका मुख्यालय पर धरने पर बैठे। धरना स्थल पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भाजपा के पूर्व विधायक व मुख्य वक्ता ध्रुव नारायण सिंह, सांसद डा. केपी यादव, पूर्व विधायक पन्नालाल शाक्य ने कांग्रेस सरकार पर किसानों के कर्ज माफी न करने पर जमकर निशाना साधा और कहा कि कांग्रेस की सरकार केवल तबादला उद्योग चला रही है, न किसानों के कर्ज माफ हो पाए और, कांग्रेस के तीन नेता प्रदेश की सरकार को चला रहे हैं। आपसी समन्वय तक इन नेताओं में नहीं हैं। धु्रव नारायण ने राम मंदिर के मामले में कहा कि जल्द ही खुशखबरी मिलेगी। धु्रव नारायण, केपी और पूर्व विधायक पन्नालाल के अलावा कांग्रेस सरकार पर भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष हरी सिंह यादव, नगर पालिका अध्यक्ष राजेन्द्र सलूजा, पूर्व विधायक ममता मीणा, जिला संगठन प्रभारी महेन्द्र यादव, विधायक गोपीलाल जाटव, रमेश मालवीय आदि ने भी अपने संबोधन में मुख्यमंत्री कमलनाथ और प्रदेश सरकार पर जमकर निशाने साधे। धरना एवं प्रदर्शन का संचालन भारतीय जनता पार्टी के जिला महामंत्री अशोक शर्मा द्वारा किया गया।

पांच दर्जन नेता भी नहीं हुए शामिल

प्रदेश में कांग्रेस की सत्ता है। इसके बाद भी कांग्रेस ने केन्द्र सरकार द्वारा मप्र सरकार को राहत राशि न देने पर आंदोलन की प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने घोषणा की थी, इस घोषणा के तहत कांग्रेस नेता राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपने के लिए हनुमान चौराहे पर एकत्रित हुए, जहां से रैली के रूप में पुरानी कलेक्ट्रेट पहुंचे, जहां उन्होंने केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की, इसके बाद डिप्टी कलेक्टर नेहा सोनी को राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपा। इस ज्ञापन का वाचन प्रदेश कांग्रेस के महासचिव योगेन्द्र लुम्बा ने किया।जिसमें राष्ट्रपति से मांग की है कि वे अतिवृष्टि के कारण किसानों को हुए नुकसान की भरपाई के मामले में, मप्र के साथ भेदभाव पूर्ण नीति अपना रही केन्द्र सरकार से प्रदेश के किसानों को तत्काल मुआवजा दिलाने के लिए प्रभावी हस्तक्षेप करें, जिससे प्रदेश के प्रभावित अन्नदाताओं को अविलंब रूप से राहत मिल सके।

[MORE_ADVERTISE2]