स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सरकारी स्कूलों के टीचर्स को अवकाश के लिए करना होगा यह काम, अब नहीं चल पाएगी छुट्टी की घपलेबाजी

Dheerendra Vikramadittya

Publish: Nov 06, 2019 10:10 AM | Updated: Nov 06, 2019 10:10 AM

Gorakhpur

  • अधिकारियों से सांठगांठ कर गायब रहने वाले टीचर्स पर शासन का चला डंडा
  • नई व्यवस्था के तहत अब करना होगा अवकाश के लिए आवेदन, पुरानी व्यवस्था बंद

सरकारी स्कूलों (Government schools)के शिक्षकों-शिक्षिकाओं को अब अवकाश केवल आॅनलाइन आवेदन (Online leave application) करने के बाद ही मिल सकेगा। शासन ने अब आॅफलाइन अवकाश आवेदन की प्रक्रिया पूर्णतया बंद कर दी है। नई व्यवस्था के तहत विभाग द्वारा उपलब्ध कराई गई वेबसाइट पर आवेदन करने पर ही अवकाश स्वीकृत होगी।

Read this also:

दरअसल, प्राइमरी व जूनियर स्कूलों में अधिकारियों व शिक्षकों की आपसी सांठगांठ के चलते आए दिन शिक्षक-शिक्षिकाएं गायब मिलती थी। कई कई मामले तो ऐसे सामने आए जिसमें शिक्षक-शिक्षिका बिना अवकाश के ही महीनो-महीना गायब रहे और आराम से वेतन पाते रहे हैं। आॅफलाइन अवकाश के मामलों में आपसी समझौता कर भी शिक्षक आए दिन गायब मिलते थे। तमाम शिक्षकों की ब्लॉक संसाधन केंद्रों पर सेटिंग होती थी, जिससे उनका अवकाश सर्विस बुक में एंट्री नहीं होती थी। इन सबसे प्राथमिक शिक्षा पर प्रतिकूल असर पड़ रहा था।
अब शासन ने इन व्यवस्था में बदलाव कर दिया है। किसी भी शिक्षक को अगर अवकाश चाहिए तो उसे आॅनलाइन अवकाश आवेदन करना होगा। बिना आॅनलाइन अवकाश आवेदन के उसका अवकाश स्वीकृत नहीं हो सकेगा। नई व्यवस्था के अंतर्गत शिक्षकों को ehrms.upsde.gov.in वेबसाइट के माध्यम से ही सीएल, ईएल और मेडिकल के साथ-साथ महिला शिक्षिकाओं को मातृत्व अवकाश और चाइल्ड केयर के लिए आवेदन करना होगा। इसी माह से यह व्यवस्थ पूर्णतया प्रभावी कर दिया गया है। जानकार बताते हैं कि नई व्यवस्था से गायब रहने वाले शिक्षक-शिक्षिकाओं के लिए मुश्किलें बढ़ेगी तो अधिकारियों की भी सेटिंग फिलहाल गड़बड़ हो सकती है।

Read this also: किन्नर समाज का छठ व्रत, एेसी छठ पूजा देखी है क्या, देखिए वीडियो

[MORE_ADVERTISE1]