स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भासपा विधायक की मुश्किलें बढ़ी, विधायक व उनके पुत्र आदि पर बलवा, डकैती, लूटपाट, आगजनी का केस

Dheerendra Vikramadittya

Publish: Aug 18, 2019 20:12 PM | Updated: Aug 18, 2019 20:12 PM

Gorakhpur

  • कुशीनगर में गांजा तस्करी के आरोप में पकड़े गए व्यक्ति की जेल में मौत की अफवाह प्रसारित कराने का आरोप
  • जेल में मौत की सूचना के बाद भीड़ ने शिकायतकर्ता के घर धावा बोलकर तोड़फोड़ व आगजनी की
  • विधायक सहित 78 लोगों पर पुलिस ने दर्ज किया केस

भासपा के एक और विधायक की मुश्किलें बढ़ गई है। कैदी की मौत की अफवाह के बाद हुए बवाल के मामले में भारतीय समाज पार्टी के रामकोला विधायक रामानंद बौद्ध समेत 78 नामजद और 50 से अधिक अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। विधायक बौद्ध, पुत्र अविनाश बौद्ध सहित 78 लोगों पर गांजा तस्कर की मदद करने, अफवाह फैलाकर आगजनी कराने, लूटपाट करने सहित कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं।
अहिरौली बाजार क्षेत्र के जगदीशपुर बरडीहा के संतोष पांडेय की तहरीर पर यह केस दर्ज हुआ है। तहरीर में वादी द्वारा बताया गया है कि गांजा तस्करों के खिलाफ केस दर्ज कराने के कारण उनके घर पर धावा बोलकर तोड़फोड़ किया गया, लूटपाट करने के बाद घर को आग के हवाले कर दिया गया।
दरअसल, दो अलग-अलग मामलों से बवाल की तैयार हो रही पृष्ठीाूमि में शनिवार को एक अफवाह ने बल दे दिया। इसके बाद बेकाबू भीड़ ने तोड़फोड़ और आगजनी को अंजाम दे दिया।

Read this also: पवित्र रिश्ते को कर दिया शर्मसार, बेटी से दुष्कर्म कर काट डाला, सिर को गाड़ दिया आैर धड़ के साथ कुछ एेसा कि

इन दो घटनाओं को जानिए जो बवाल की जड़ में

पहला मामला करीब दो महीना पहले का है। बताया जा रहा है कि अहिरौली बाजार क्षेत्र के जगदीशपुर चैराहा पर पीडब्ल्यूडी की जमीन पर कुछ लोगों ने गुमटियां डालकर अपना दुकान खोल रखा था। जमीन को कब्जा मुक्त करने के लिए संतोष पांडेय नामक व्यक्ति ने पीडब्ल्यूडी से शिकायत की थी। शिकायती पत्र पर पीडब्ल्यूडी ने अतिक्रमण हटवा दिया था। 15 जून को हुई इस कार्रवाई के खिलाफ लोग आक्रोशित हो गए थे। इन लोगों ने सड़क जाम कर दिया था। पुलिस ने इस मामले में नवरंग सिंह समेत काफी लोगों पर केस दर्ज किया था।
यह मामला चल ही रहा था कि बीते 14 अगस्त को पुलिस ने गांजा तस्करी के मामले में नवरंग सिंह को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद नवरंग सिंह को देवरिया जेल भेज दिया गया।
नवरंग सिंह पर हुई इस कार्रवाई से लोग पुलिस पर आक्रोशित थे। लोगों ने शुक्रवार को इस बाबत बैठक की थी। पुलिसिया उत्पीड़न बताकर हुई इस बैठक में रामकोला विधायक रामानंद बौद्ध भी शामिल हुए थे।
पुलिस को मिली तहरीर के मुताबिक संतोष पांडेय ने बताया है कि शनिवार को पचास से अधिक संख्या में लोग रामकोला विधायक रामानंद बौद्ध, उनके पुत्र अविनाश बौद्ध समेत सैकड़ों लोग कप्तानगंज-पिपराइच रोड के पास एकत्र हुए और जेल में बंद नवरंग सिंह की मौत की झूठी खबर प्रसारित कर सड़क जाम कर दिया। तहरीर के मुताबिक ये लोग लाठी-डंडा, फरसा व हथियारों से लैस थे। संतोष पांडेय की तहरीर के मुताबिक ये सभी लोग सड़क जाम के बाद उसके दोनों घरों पर धावा बोल दिए। तोड़फोड़ व लूटपाट की गई। इसके बाद उसके घर को आग के हवाले कर दिया गया। भीड़ के डर से घर में रह रहे परिजन व किराएदार पहले भी भाग निकले थे।
पुलिस ने वादी संतोष पांडेय की तहरीर पर विधायक रामानंद बौद्ध, उनके पुत्र अविनाश बौद्ध समेत 78 नामजद व 50 से अधिक अज्ञात के खिलाफ आईपीसी की धारा 147, 148, 149, 186, 342, 395 436, 427, 504, 506 सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज कर लिया है।

Read this also: यूपी भाजपा ने चुनाव के लिए एक आैर लिस्ट जारी की, लक्ष्मण आचार्य सहित कई विधायक-पूर्व मंत्रियों को जिम्मेदारी