स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जब सरकार ने साध ली थी चुप्पी तो अरुण जेटली ने खुलकर बयान देते हुए कहा था न्यू इंडिया के लिए ‘शर्मनाक घटना है ये’

Dheerendra Vikramadittya

Publish: Aug 24, 2019 14:10 PM | Updated: Aug 24, 2019 14:10 PM

Gorakhpur

  • अरुण जेटली के बयान ने तंत्र को कटघरे में खड़ा कर दिया था
  • न्यू इंडिया की वकालत करने वाले अरुण जेटली हर मुद्दों पर बेबाकी से बयान देते थे

भाजपा और केंद्र सरकार के संकट मोचक रह चुके पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली (Arun Jaitely)अपनी बेबाक और सधी हुई टिप्पणियों के लिए भी जाने जाते हैं। जिन मुद्दों पर बड़े बड़े वक्ता कुछ कहने से कतराते रहे हैं अरुण जेटली ने उन सवालों पर खुलकर जवाब दिए हैं। गोरखपुर में 2017 में बीआरडी मेडिकल काॅलेज(BRD Medical College) में आक्सीजन(Oxygen Tragedy) की कमी से हुई बच्चों की मौतों का मामला भी कुछ इसी तरह का था। जब इस मुद्दे पर पूरा तंत्र व सरकार कटघरे में थी। यूपी सरकार के वरिष्ठ मंत्री व प्रवक्ता डाॅ.सिद्धार्थनाथ सिंह ने ‘अगस्त में बच्चे मरते हैं’ का बयान देकर भद्द पिटवा दिया था उस समय तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली का बयान काबिल-ए-तारीफ था।

मुंबई में एक कार्यक्रम में पहुंचे तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि न्यू इंडिया में इस तरह के मामले बेहद शर्मनाक हैं। यह सुनिश्चित होना चाहिए कि फिर से ऐसी घटनाएं न हो। स्वास्थ्य सुविधाओं से लेकर हर प्रकार की नागरिक सुविधाओं के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर को दुरुस्त किया जाना चाहिए तभी न्यू इंडिया या नए भारत का सपना साकार हो सकेगा।
लंबी बीमारी की वजह से दिल्ली एम्स में शनिवार को अरुण जेटली (Arun Jaitely demise in AIIMS) नहीं रहे। उनकी मौत ने हर खास-ओ-आम को झकझोर दिया है।

Read this also: श्रीकृष्ण का बाल रूप धरे बच्चों संग जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खिलखिला उठे...

 

छात्र जीवन से की थी राजनीतिक यात्रा की शुरूआत

हर बात को बेहद सुलझे हुए अंदाज में रखने के लिए याद किए जाने वाले पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के राजनैतिक जीवन की शुरुआत छात्र राजनीति से हुर्इ थी। एबीवीपी में सक्रिय रहे जेटली दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र संघ अध्यक्ष भी रहे थे। एबीवीपी से उन्होंने बीजेपी की स्थापना के समय युवा मोर्चा में शामिल हुए। हाजिर जवाबी की वजह से लोकप्रिय जेटली श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से ग्रैजुएट और लॉ फैकल्टी से कानून की पढ़ाई की। देश के जाने माने वकीलों में शुमार जेटली भारतीय राजनीति की क्षितिज पर रहने के बाद भी कुछ फैसलों की वजह से भर्त्सना के भी शिकार हुए थे।