स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यूपी में अब हर निर्माण कार्य के लिए नोडल अधिकारी, सीएम योगी ने दिया निर्देश

Dheerendra Vikramadittya

Publish: Oct 21, 2019 08:08 AM | Updated: Oct 21, 2019 01:34 AM

Gorakhpur

CM Yogi Adityanath review meeting in Gorakhnath Mandir
गोरखपुर में चल रहे निर्माण कार्याें की समीक्षा कर वापस लौटे सीएम

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने निर्देश दिया है कि प्रत्येक निर्माण कार्य के लिए अलग अलग नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाए। ये अधिकारी चल रहे संबंधित विकास परियोजनाओं के लिए जिम्मेदार होंगे। गुणवत्ता के साथ काम नहीं होने पर संबंधित के खिलाफ कार्रवाई भी की जाए। कोई भी कार्य अगर लंबित रहता है तो उसे शासन से अवगत भी कराएं।

Read this also: दोस्त की बहन से हुआ प्यार, आठ महीना तक लिव इन रिलेशन में रहने के बाद...

मुख्यमंत्री रविवार को गोरखपुर (Gorakhpur) पहुंचे थे। कुछ घंटों के गोरखपुर प्रवास के दौरान उन्होंने गोरखनाथ मंदिर (Gorakhnath mandir) में गोरखपुर जिले के विकास कार्याें की समीक्षा (review meeting) की। अधिकारियों से संबंधित परियोजनाओं के बारे में जानकारी लेने के साथ समीक्षा करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने साफ तौर पर गुणवत्तायुक्त कार्य को प्राथमिकता देने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि जो भी निर्माण कार्य चल रहे है उसको समय से गुणवत्तायुक्त पूर्ण कराया जाये तथा जिलाधिकारी प्रत्येक 15 दिनों में निर्माण कार्य के प्रगति की समीक्षा भी करते रहे। प्रत्येक निर्माण कार्य के लिए अलग अलग नोडल अधिकारी/टीम बनाकर गुणवत्ता की निगरानी भी करायी जाये। उन्होंने कहा कि कोई भी निर्माण कार्य लंबित न रहे इसके लिए जो भी कठिनाई आती है तो शासन को अवगत करायें। उन्होंने कहा कि लोगों को बुनियादी सुविधा मिले इसके लिए योजना बनाकर कार्य करें।

Read this also: 75 साल की उम्र में पढ़ार्इ का जुनून, बेटे के साथ कर रहे क्लास, सहपाठी बुलाते हैं दादाजी तो...

मुख्यमंत्री ने समीक्षा (CM's review meeting in Gorakhpur) के दौरान जनपद में बन रहे इंटर कालेजों, स्टेडियम, डेªनेज सिस्टम, राप्ती नदी पर बन रहे पक्के घाट निर्माण की समीक्षा करते हुए निर्देश दिया कि राप्ती/रोहिन नदी में गिरने वाले नालों को रोकने के लिए एक विस्तृत कार्य योजना बनाकर प्रस्तुत किया जायें जिससे उसका स्थायी समाधान हो सके। उन्होंने खेलों इंडिया के तहत ग्राम पंचायतों में खेल के मैदान चिन्हित करने का निर्देश देते हुए कहा कि जन प्रतिनिधियों का सहयोग लेकर खेल के मैदान में ओपेन जिम तथा अन्य खेल के सुविधाएं स्थापित करें। उन्होनें कहा कि आने वाले समय में ठण्ड के दृष्टिगत रैन बसेरा, कम्बल आदि की खरीद की कार्यवाही पूर्ण कर ली जाये, कोई भी व्यक्ति ठण्ड में खुले आसमान के नीचे न सोने पाये। उन्होंने नगरनिगम एंव शहर की सीमा विस्तार के बारे में भी चर्चा करते हुए कहा कि इसके लिए व्यापक कार्य योजना तैयार की जाये।
मुख्यमंत्री ने सड़क निर्माण की समीक्षा करते हुए निर्देश दिया कि 15 नवम्बर तक सभी सड़कों को गड्ढामुक्त कर दिया जाये तथा जो भी कार्य हो पूरी गुणवत्ता के साथ हो इसमें समझौता न किया जाये। उन्होंने देवरिया-गोरखपुर फोरलेन एवं महराजगंज-गोरखपुर फोरलेन की निर्माण की समीक्षा करते हुए निर्देश दिया कि कार्यों को तेजी से पूर्ण किया जाय तथा गोरखपुर वाराणसी फोरलेन को भी ठीक कराने का निर्देश दिया। उन्होंने नगरनिगम को निर्देश दिया कि छठ पर्व के दृष्टिगत घाटों की साफ सफाई एंव अन्य व्यवस्थाएं पूर्ण कर ली जाये तथा शहर में पार्किंग आदि की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाये। प्रधानमंत्री आवास योजना में आवास निर्माण में तेजी लाई जाये तथा गोरखपुर ओवरब्रिज के नीचे सड़क को ठीक कराया जाये। उन्होंने पुलिस विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि त्यौहारों के दृष्टिगत विशेष सतर्कता रखी जाये और सघन जांच अभियान भी समय समय पर चलाया जाये।
बैठक में एडीजी दावा शेरपा, जेएन सिंह, जिलाधिकारी के. विजयेन्द्र पाण्डियन, एसएसपी डाॅ. सुनील गुप्ता, मुख्य विकास अधिकारी अनुज सिंह, जीडीए वीसी ए दिनेश कुमार आदि मौजूद रहे।

Read this also: बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बोले, पीएम मोदी अपना मकान नहीं रहे...