स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) में इन बातों को ध्यान में रख करें निवेश, आपका धन जल्द हो जाएगा कई गुना

Dheerendra Vikramadittya

Publish: Jul 20, 2019 16:03 PM | Updated: Jul 20, 2019 17:03 PM

Gorakhpur

  • कैसे करें निवेश कि आपका धन न डूबे ( How to invest in Mutual Funds)
  • क्या है आदर्श निवेश का तरीका
  • क्या क्या सावधानियां बरती जानी चाहिए निवेश करते समय

बदलते दौर में म्यूचुअल फंड्स (Mutual funds) के प्रति आकर्षण तो बढ़ा है लेकिन हर कोई इसको लेकर सशंकित रहता है। इसमें निवेश पर कहीं पूरी पूंजी डूब तो नहीं जाएगी, रिटर्न पाने में क्या दिक्कतें आएगी। म्यूचुअल फंड में किस प्रकार निवेश करें यह बता रहे वरिष्ठ वित्तीय विशेषज्ञ व पूर्व बैंकर डीएम झा।

वित्तीय विशेषज्ञ (Finance Expert) डीएम झा (DM Jha) का भी मानना है कि म्यूचुअल फंड के अस्तित्व में आये काफी समय हो गया है लेकिन अभी भी ऐसे निवेशक हैं जो म्यूचुअल फंड की अवधारणा पर स्पष्ट नहीं हैं। म्यूचुअल फंड एक ट्रस्ट है जो उन निवेशकों की बचत को साझा करता है जिनका वित्तीय लक्ष्य एक समान हो। उन्होंने बताया कि निवेशकों से एकत्र किया गया धन पूंजी बाजार के उपकरणों जैसे शेयर, डिबेंचर, और अन्य वित्तीय प्रतिभूतियों में निवेश किया जाता है। इन निवेशों से अर्जित आय को उसके यूनिट धारकों को उनकी इकाइयों की संख्या के अनुपात में साझा किया जाता है। सामान्य परिस्थितियों में आम नागरिक म्यूचुअल फंड (Mutual Funds) या शेयर मार्केट( share market) का नाम सुनकर तेजी से नकारात्मक प्रतिक्रिया देते हैं हैं।

 

DM Jha
DM Jha IMAGE CREDIT: Dheerendra Gopal

म्यूचुअल फंड में निवेश क्यों करें ?

1.म्यूचुअल फंड (Mutual fund), शेयर (Share), डिवेंचर(Debenture), मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट (Money market instrument) जैसी कर्इ प्रतिभूतियों में निवेश कर विविधिकरण का लाभ उठाते हुए एक विविध पोर्टफोलियो (Portfolio) में निवेश करके अनैच्छिक जोखिमों में विविधता लाने में मदद करते हैं। इसलिए म्यूचुअल फंड जोखिम व्यक्तिगत शेयरों की तुलना में बहुत कम है।

2. छोटी पूंजी परिव्यय
शेयरों के विविध पोर्टफोलियो (Share portfolio) के निर्माण के लिए बड़े पूंजी की आवश्यकता होती है जब की म्यूचुअल फंड में कई निवेशको (Small investors) के छोटे छोटे पैसे पूलिंग के आधार पर शेयरों के विविध पोर्टफोलियो के लिये बड़े पूंजी का निर्माण हो जाता है। म्यूचुअल फंड में निवेशक 500 रुपये से निवेश आरंभ कर सकते है।

3. निवेश विशेषज्ञता
पूंजी बाजार में निवेश करने के लिए बहुत अनुभव और विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है जो आम निवेशकों के पास नहीं है। म्यूचुअल फंड में निवेशको का पैसा एक वित्तीय विशेषज्ञ( फंड मैनेजर ) (Fund Manager) अपने अनुभव और ज्ञान के आधार पर पूंजी बाजार में लगता है जिसे जोखिम समायोजित रिटर्न प्राप्त करने के लिए पर्याप्त विशेषज्ञता और अनुभव होता है।

4. लेनदेन लागत में पैमाने की अर्थव्यवस्था
सेबी ने जून 2009 म्यूचुअल फंड में निवेश करने पर एंट्री लोड को समाप्त कर दिया है। हालांकि यूनिट को बेचने के समय एक्जिट लोड लगता है लेकिन लोड के बारे में जानकारी रहने पर एक्जिट लोड को समाप्त किया जा सकता है या काफी कम किया जा सकता है.

5. उत्पादों की विविधता
म्यूचुअल फंड निवेशकों को अपने जोखिम प्रोफाइल और निवेश उद्देश्यों के लिए कई तरह के उत्पाद पेश करते हैं, जैसे इक्विटी फंड(equity fund), डैब्ट फंड (Debt fund), लिकुइड फंड (liquid fund) आदि ।

6. निवेश के तरीकों की विविधता
म्यूचुअल फंड निवेशकों के निवेश और निकासी के तरीकों के आधार पर लचीलापन प्रदान करता है, जैसे एकमुश्त निवेश, व्यवस्थित निवेश योजना (सिप), व्यवस्थित हस्तांतरण योजना (एसटीपी), व्यवस्थित निकासी योजना(एसडब्ल्यूपी) आदि।

7. अनुशासित निवेश
शेयर की कीमतें अत्यधिक अस्थिर हैं और डर या लालच के कारण निवेशक को कम समय में खरीदने या बेचने के लिए प्रेरित कर सकते हैं। बार-बार ट्रेडिंग करने से अक्सर निवेशक को नुकसान उठाना पड़ता है। म्यूचुअल फंड में निवेशकों को लंबे समय तक निवेशित रहने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, जो धन बनाने के लिए आवश्यक है।

(डीएम झा, वर्तमान में विभिन्न वित्तीय शैक्षिक संस्थानों से जुड़े हुए हैं। बैंकिंग के क्षेत्र में कर्इ दशकों तक काम करने का अनुभव है। निवेश व प्रबंधन के विशेषज्ञ हैं। )