स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सीएम योगी बोले, बायोफ्यूल मतलब आम के आम और गुठलियों के भी दाम

Dheerendra Vikramadittya

Publish: Sep 19, 2019 01:45 AM | Updated: Sep 19, 2019 01:45 AM

Gorakhpur


केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, नहीं भटकेंगे प्रदेश के युवा, यहीं मिलेगा रोजगार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पूर्वांचल के सूखेपन को दूर किया है। गोरखपुर के दक्षिणांचल के लोगों की वर्षों से जो तमन्ना थी, उसे पेट्रोलियम मंत्रालय द्वारा पूर्ण किया गया। यहां उद्योग का अभाव था। इस अभाव को दूर करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पेट्रोलियम मंत्रालय की तरफ से एक बायोफ्यूल का उद्यम दिया गया है। गोरखपुर में 26 वर्षों से बंद कारखाने का प्रधानमंत्री मोदी ने 2016 में शिलान्यास किया था और अब पहले से भी बड़ा कारखाना बनाया जा रहा है। इस कारखाने के चलने से यूपी समेत, बिहार, बंगाल एवं अन्य राज्यों को यूरिया पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होगा। इसे फरवरी 2021 में प्रारम्भ किया जाएगा जो कि गोरखपुर की खोई हुई पहचान को वापस लौटाएगा।

Read this also:

मुख्यमंत्री बुधवार को गोरखपुर के गीडा में इंडियन आॅयल के बाॅटलिंग प्लांट व बैतालपुर के बीपीसी के बाॅटलिंग प्लांट के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। सीएम के साथ केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बुधवार को गोरखपुर को कई सौगातें दीं। दोनों बाॅटलिंग प्लांट के साथ धुरियापार में 1200 करोड़ की लागत से बनने वाले प्रदेश के पहले बायो-फ्यूल प्लांट का शिलान्यास किया गया। इसके अलावा 43 करोड़ से बनी 11 सड़कों का भी लोकार्पण मुख्यमंत्री योगी द्वारा किया गया।
सीएम मुख्यमंत्री ने कहा बायोफ्यूल प्लांट से नगरीय कचड़ा, खेत की पुआली, खरपतवार से भी ईंधन उत्पन्न किया जा सकेगा। गाय और भैंस के गोबर का दाम भी यहां के लोगों को मिलने लगेगा इससे किसानों की आय को दुगुनी करने में मदद मिलेगी।

Read this also: पड़ोसी देश ने दिया मोदी-शाह को झटका, एक झटके में हजारों भारतीयों की नागरिकता पर संकट के बादल

biofuel_1.jpg

उन्होंने कहा कि यहां बेहतर कनेक्टिविटी और आवागमन की सुविधाओं को बढ़ाने के लिए लिए राज्य सरकार द्वारा पूर्वांचल एक्प्रेसवे का निर्माण कराया जा रहा है। इस एक्सप्रेस वे के माध्यम से लखनऊ, आजमगढ़, गाजीपुर, वाराणसी और गोरखपुर को पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के साथ जोड़ा जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा इसके दोनों ओर औद्योगिक गलियारे का निर्माण कराया जा रहा है। इसके साथ ही गोरखपुर में गीडा का विस्तार किया जा रहा है ताकि यहां अधिक से अधिक उद्योग लग सकें। अब यहां के नौजवानों को रोजगार के लिए सिंगापुर या बैंकाक नहीं जाना पड़ेगा। युवाओं को बड़ी संख्या में यहां ही रोजगार प्राप्त हो सकेगा। हमारी पौराणिक पहचान जो रामजानकी के नाम पर है उस मार्ग को भी आयोध्या से जनकपुर तक फोरलेन कनेक्टिविटी के साथ जोड़ा जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा निराश्रित गोवंशों के लिए कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। जगह-जगह गोआश्रय स्थल बनाए जा रहे हैं, इसके साथ ही निराश्रित गोवंश को रखने वाले किसान को प्रतिमाह, प्रतिगाय 900 रुपए दिए जाएंगे। आम के आम और गुठलियों के दाम यहां के वासियों को मिलने जा रहा है। एक तरफ गोवंश के लिए प्रतिमाह 900 रुपए मिलेंगे तो वहीं गोमूत्र और गोबर की बिक्री से भी किसानों की आय में कई गुना वृद्धि हो सकेगी। उन्होंने कहा कि गोरखपुरवासियों को पानी की तरह ही गैस की पाइपलाइन के द्वारा सीधे घर तक गैस की सप्लाई मिलेगी अब यहां के लोगों को सिलेंडर अपने सिर में नहीं ढोना पड़ेगा।