स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यूपी में एंटी करप्शन की बड़ी कार्रवाई, सीएम के शहर में एक और घूसखोर को रंगे हाथ पकड़ा

Dheerendra Vikramadittya

Publish: Sep 17, 2019 18:58 PM | Updated: Sep 17, 2019 18:58 PM

Gorakhpur

  • भुगतान के लिए महीनों से दौड़ा रहा था घूसखोर
  • 22 हजार घूस मांग रहा था फाइल को भुगतान के लिए लगाने के लिए

मुख्यमंत्री के शहर में एंटी करप्शन टीम ने एक बार फिर भ्रष्टाचार पर वार किया है। पुलिस विभाग के दरोगा को गिरफ्तार करने के बाद अब एंटी करप्शन टीम ने बिजली विभाग के सहायक लेखाकार को रंगे हाथ रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। आरोपी रिश्वतखोर भुगतान के एवज में 22 हजार रुपये घूस की मांग किया था। रकम लेते समय टीम ने रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया है।

Read this also: सीएम के शहर में घूसखोर दरोगा गिरफ्तार, एफआर लगाने मांगे डेढ़ लाख रुपये

सिद्धार्थनगर जिले में बिजली विभाग में कार्यरत सहायक लेखाकार अवनीश कुमार सिंह के पटल पर महराजगंज के रहने वाले ठेकेदार परशुराम जायसवाल की भुगतान संबंधित फाइल अटकी पड़ी थी। ठेकेदार से आरोपी सहायक लेखाकार लगातार रिश्वत की मांग कर रहा था। भुगतान के एवज में उसने 22 हजार रुपये मांग की। जबकि ठेकेदार ने काम कराने के पहले सभी संबंधितों को तय रकम दे दी थी। कई महीनों से परेशान ठेकेदार आजिज आकर एंटी करप्शन टीम से संपर्क किया। एंटी करप्शन टीम ने जाल बिछायी। ठेकेदार ने सहायक लेखाकार अवनीश कुमार सिंह को फोन कर रकम देने की बात कही। घूसखोर बाबू ने गोरखपुर शहर के इंजीनियिरिंग काॅलेज के पास रकम देने के लिए बुलाया। एंटी करप्शन टीम पहले से जाल बिछायी हुई थी। शहर के एमएमएमयूटी के पास जैसे ही परशुराम जायसवाल ने आरोपी सहायक लेखाकार अवनीश को 22 हजार रुपये की घूस की रकम सौंपी, वैसे ही एंटी करप्शन ने उसे धरदबोचा।
एंटी करप्शन टीम के प्रभारी देव प्रकाश रावत के अनुसार ठेकेदार की शिकायत पर टीम ने जाल बिछाकर खोराबार क्षेत्र से भ्रष्ट सहायक लेखाकार को गिरफ्तार किया है। उसके खिलाफ खोराबार थाने में केस दर्ज कराकर जेल भेजने की कार्रवाई की जा रही है।

Read this also: मोटर वेहिकल एक्ट के बाद यूपी में लागू होगा यह कानून, जुर्माना सुन हैरान रह जाएंगे आप