स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

OMG! पांचवीं के छात्र के कैरेक्टर सर्टिफिकेट में गुरूजी ने यह क्या लिख दिया, आप भी नहीं करेंगे यकीन

Hariom Dwivedi

Publish: Aug 06, 2019 16:45 PM | Updated: Aug 06, 2019 19:29 PM

Gonda

- जिलाधिकारी ने बीएसए को सौंपी जांच, कहा- आरोप सिद्ध होने पर होगी कड़ी कार्यवाही
- परिजनों ने प्रधानाचार्य पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- छात्र का भविष्य बिगाड़ने को बनाया ऐसा Transfer Certificate
- गोंडा जिले के चतरौली गांव के प्राइमरी स्कूल का मामला, 9 वर्षीय छात्र को बताया चरित्रहीन

गोंडा. उसने अभी ठीक से दुनियादारी समझी भी नहीं थी। जुम्मा-जुम्मा वह अभी नौ वर्ष का ही हुआ है। गुरूजी ने उसे चरित्रहीन घोषित कर दिया। मामला गोंडा जिले के चतरौली गांव के एक प्राइमरी स्कूल का है। परिजनों का आरोप है कि बेटे को दंडित करने के लिए प्रधानाचार्य ने बेटे के चरित्र प्रमाण पत्र में चरित्रहीन लिख दिया, ताकि उसे किसी और स्कूल में प्रवेश न मिल सके। गोंडा जिलाधिकारी नितिन बंसल ने कहा कि मामला उनके संज्ञान में आया है। बीएसए को जांच सौंपी गई है। आरोप सही जाने पर प्रधानाचार्य के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

परिजनों का कहना है कि उनका नौ वर्षीय बेटा पांचवीं कक्षा का छात्र है। बीते दिनों उसका सहपाठियों संग झगड़ा हुआ था, जिसके बाद कथित तौर पर एक शिक्षक ने उसकी पिटाई कर दी थी। नाराज परिजनों ने इसकी शिकायत स्कूल के प्रधानाचार्य से की तो उन्होंने अपने अध्यापक पर कार्यवाही करने से इनकार कर दिया। इसके बाद नाराज परिजनों ने बेटे को स्कूल से निकालने की बात कहते हुए स्थानांतरण प्रमाण (टीसी) पत्र मांगा। लेकिन जब उन्होंने टीसी देखा तो उनके होश उड़ गये।

यह भी पढ़ें : कहीं आपको भी तो नहीं सता रहा अनजाना डर, खतरनाक बीमारी के हैं यह लक्षण, सबसे ज्यादा खतरा युवाओं को

...और टीसी में लिख दिया चरित्रहीन
ट्रांसफर सर्टिफिकेट में छात्र को चरित्रहीन बताया गया था। प्रधानाचार्य ने चरित्र वाले कॉलम में चरित्रहीन लिख दिया। परिजनों ने हंगामा करते हुए प्रधानाचार्य से सही कर नई टीसी जारी करने को कहा तो उन्होंने मना कर दिया। परिजनों का आरोप है कि शिक्षक की शिकायत करने और बच्चे को स्कूल से निकालने पर उसे दंडित करने के लिए स्कूल प्रबंधन ने ऐसी टीसी जारी की है, ताकि उसका और कहीं एडमिशन न हो पाये। प्रधानाध्यापक ने बताया कि बच्चे के मां-बाप टीसी बनाने की जिद पर अड़े थे। इस पर उन्होंने टीसी बनाकर बच्चे का जैसा चरित्र है, वैसा लिख दिया।

डीएम ने बीएसए को सौंपी जांच
गोंडा जिलाधिकारी नितिन बंसल ने कहा कि जिले के एक प्राइमरी स्कूल पर आरोप है कि वहां पांचवीं कक्षा में पढ़ने वाले नौ वर्ष के छात्र के स्थानांतरण प्रमाण पत्र में चरित्रहीन लिख दिया है। इसके अलावा टीसी लेने के दौरान छात्र के परिजन और प्रधानाचार्य के विवाद की भी खबर मिली है। उन्होंने कहा कि बेसिक शिक्षा अधिकारी को मामले की जांच सौंपी गई है। आरोप सही पाये गये तो प्रधानाचार्य के खिलाफ कड़ा एक्शन लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें : सुलतानपुर में हेलिकॉप्टर से गिराये जाएंगे 10 लाख सीड बम, मिलेगी प्रदूषण से मुक्ति