स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

प्राइमरी स्कूल के बच्चों के बीच गदगद हुईं राज्यपाल, इस सवाल के जवाब ने जीता उनका दिल

Karishma Lalwani

Publish: Sep 20, 2019 14:56 PM | Updated: Sep 20, 2019 16:18 PM

Gonda

- राज्यपाल आनंदीबेन पटेल पहुंची महिला अस्पताल

- प्राइमरी स्कूल में बच्चों से किए सवाल-जवाब

गोंडा. राज्यपाल आनंदीबेन पटेल (Anandiben Patel) ने शुक्रवार को गोंडा जिले का दौरा किया। उन्होंने यहां महिला अस्पताल, प्राइमरी स्कूल रानी पुरवा व आंगनबाड़ी केंद्र का निरीक्षण किया। उन्होंने वार्ड में भर्ती मरीजों से बात की और उन्हें फल बांटे। राज्यपाल ने आयुष्मान भारत योजना के बारे में संबंधित अधिकारियों से फीडबैक लिया। साथ ही मरीजों को मिल रही सुविधाओं के बारे में पूछा। उन्होंने दवा और खाने संबंधित जानकारी मरीजों से ली।

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का हेलिकाप्टर जिले स्थित पुलिस लाइन के हैलिपैड पर लैंड हुआ। इस दौरान मंडलायुक्त महेंद्र कुमार, डीआइजी डॉ राकेश सिंह, डीएम डॉ नितिन बंसल व एसपी आरके नैयर ने उनकी आगवानी की। इसके बाद राज्यपाल महिला अस्पताल के लिए रवाना हुईं। राज्यपाल के आने के ढाई घंटे पहले मरीजों को अस्पताल के बाहर रोक दिया गया। ओपीडी के मरीजों को अस्पताल के दूसरे भाग में पहुंचा दिया गया। आयुष्मान वार्ड में पहले एक भी मरीज न पाकर राज्यपाल ने हैरानी जताई। यहां निरीक्षण के बाद राज्यपाल प्राइमरी स्कूल व आंगनबाड़ी केंद्र के निरीक्षण के लिए रवाना हुईं।

बच्चों के बीच गदगद राज्यपाल

राज्यपाल का काफिला प्राइमरी मॉडल स्कूूल रानी पुरवा व आंगनबाड़ी केंद्र पहुंचा। यहां स्कूल के बीच राज्यपाल गदगद दिखीं। इस दौरान राज्यपाल ने बच्चों से कुछ सवाल-जवाब किए। उन्होंने कक्षा चार के बच्चों से चार अंक के गुण का सवाल हल कराया। इस दौरान बच्चों ने राज्यपाल को ग्रीटिंग बनाकर भेंट की। बच्चों की क्राफ्ट कला को देखा और बच्चों का उत्साहवर्धन किया। राज्‍यपाल ने स्कूल के स्टाफ को भी सराहा की। वहीं, आंगनबाड़ी केंद्र में बच्चों के पोषण की जानकारी ली और बच्चों का उत्साह बढाया।

टीबी मुक्त भारत अभियान पर चर्चा

राज्यपाल छह घंटे के लिए जिले में रहेंगी। छह घंटे के कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल स्वंयसेवी संगठनों के पदाधिकारियों संग बैठक कर टीबी मुक्त भारत अभियान पर चर्चा करेंगी। इसके अलावा स्वयं सहायता समूह की महिलाओं से भी बात करेंगी। ऑर्गेनिक खेती करने वाले किसानों से चर्चा के साथ ही फार्म मशीनरी बैंक योजना का लाभ पाने वाले समूह के पदाधिकारियों को चाबी सौपेंगी।