स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस जिले में 'फौज' बनाकर घूम रहे बंदर, खौफ से अपने घरों में ही कैद हुए लोग, देखें वीडियो

Rahul Chauhan

Publish: Sep 22, 2019 17:11 PM | Updated: Sep 22, 2019 17:16 PM

Ghaziabad

Highlights:

-ग्राम प्रधान द्वारा इसकी शिकायत संबंधित अधिकारियों से की जा चुकी है

-आरोप है कि उसके बावजूद भी किसी अधिकारी का इस तरफ कोई ध्यान नहीं है

-यहां पर लोगों का घर से निकलना मुहाल हो गया है

गाजियाबाद। बंदरों का आतंक चरम सीमा पर है। हाल में ही बंदरों ने दर्जनों महिलाओं एवं बच्चों को घायल कर दिया। जिसकी शिकायत सभी घायलों द्वारा ग्राम प्रधान से की गई। ग्राम प्रधान द्वारा भी इसकी शिकायत संबंधित अधिकारियों से की जा चुकी है। आरोप है कि उसके बावजूद भी किसी अधिकारी का इस तरफ कोई ध्यान नहीं है। यहां पर लोगों का घर से निकलना मुहाल हो गया है।

यह भी पढ़ें : भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की उंगली जोड़ने वाले डॉक्टर ने अब किया ऐसा कमाल, हर तरह हो रही तारीफ, देखें वीडियो

जानकारी के मुताबिक गाजियाबाद के लोनी इलाके के टीला शाहबाजपुर गांव में बड़ी संख्या में बंदर हैं और आए दिन बंदर लोगों पर हमला कर उन्हें घायल कर रहे हैं। बंदर कई लोगों को काट चुके हैं। लोगों का कहना है कि बंदर एकत्र होकर आते हैं और एक साथ ही किसी ना किसी पर हमला बोल देते हैं। उनके डर से लोगों का घर से निकलना भी मुश्किल हो गया है।स्थानीय लोगों ने बताया कि हाल में ही दर्जनों बंदरों ने कुछ लोगों को बुरी तरह घायल कर दिया। जिसमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं। सभी को दिल्ली के अस्पताल में प्राथमिक उपचार दिलवाया गया है। लोगों का कहना है कि बंदरों का आतंक इलाके में लगातार बढ़ता ही जा रहा है।

यह भी पढ़ें: GST को लेकर सरकार ने लिया बड़ा फैसला, अब दो कैटेगिरी में किया जाएगा जमा, देखें वीडियो

उधर, ग्राम प्रधान का भी कहना है कि पहले यहां बंदर कम संख्या में थे। लेकिन अब धीरे-धीरे यह बढ़ते ही जा रहे हैं। अब बंदर पूरी टोली के साथ गांव में उत्पात मचाते हैं। इतना ही नहीं गांव के दो चार लोगों को रोजाना बंदर बुरी तरह जख्मी कर रहे हैं। जिसके डर से लोगों ने घर से निकलना भी अब बंद कर दिया है। यदि बच्चे भी स्कूल जाते हैं तो उन्हें भी कई लोग इकट्ठा होकर छोड़ने जाते हैं और जब स्कूल से आते हैं। तो पहले ही अपने बच्चों को सुरक्षित लाने के लिए गांव के बाहर ही खड़ा होना पड़ता है। ग्राम प्रधान ने बताया कि इसकी शिकायत संबंधित अधिकारियों से कई बार की जा चुकी है। लेकिन उसके बावजूद भी इस तरफ किसी अधिकारी का कोई ध्यान नहीं है।