स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Scrub Typhus: उत्तराखंड और हिमाचल के बाद यूपी में फैली यह जानलेवा बीमारी, जानिए क्‍या हैं लक्षण और बचाव

sharad asthana

Publish: Sep 16, 2019 11:30 AM | Updated: Sep 16, 2019 11:32 AM

Ghaziabad

Highlights

  • Ghaziabad निवासी महिला की Scrub Typhus से हुई मौत
  • डेंगू, मलेरिया और स्वाइन फ्लू से भी घातक हैं स्‍क्रब टाइफस
  • Ghaziabad में Scrub Typhus बीमारी से हुई पहली मौत

गाजियाबाद। जनपद में डेंगू, मलेरिया और स्वाइन फ्लू से भी घातक बीमारी स्क्रब टाइफस (Scrub Typhus) का एक मरीज मिला है। इस बीमारी से शास्त्रीनगर निवासी एक महिला की मौत हो गई। डॉक्‍टरों के अनुसार, गाजियाबाद में इस बीमारी से यह पहली मौत है।

रिपोर्ट में हुई थी पुष्टि

जानकारी के अनुसार, शास्त्रीनगर निवासी शोभा अग्रवाल की तबीयत बिगड़ने पर उनको गार्गी अस्पताल में भर्ती कराया था। वहां से उन्‍हें यशोदा अस्पताल ले जाया गया। यशोदा अस्‍पताल में उनको तीन दिन तक आईसीयू में रखा गया। इसके बाद उनको वेंटीलेटर पर रखने की सलाह दी गई। लेकिन परिजन उनको दिल्ली के मैक्स अस्पताल ले गए। वहां पर 12 सितंबर को उनकी मौत हो गई थी। यशोदा अस्पताल से मिली रिपोर्ट में शोभा को स्क्रब टाइफस बीमारी की पुष्टि हुई थी।

यह भी पढ़ें: इस जिले में डेंगू के चार मरीज और मिले, स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप

मौत भी हो सकती है मरीज की

यशोदा अस्‍पताल में महिला का इलाज करने वाले डॉक्‍टर डॉ. मुदित मोहन का कहना है क‍ि स्क्रब टाइफस डेंगू, मलेरिया और स्वाइन फ्लू से भी ज्‍यादा जानलेवा है। इसके मामले अभी तक उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में ही पाए जाते थे। अब गाजियाबाद में इसके केस सामने आ रहे हैं। यह चूहे में मौजूद एक कीड़े से फैलती है। उन्‍होंने कहा कि मरीज को अगर समय से इलाज नहीं मिला तो उसकी मौत भी हो सकती है। इसका संक्रमण शरीर के सभी अंगों को खराब कर देता है। डॉक्‍टर ने बताया कि इसके मरीज ज्यादातर पहाड़ी क्षेत्रों में पाए जाते हैं। यह एक संक्रामक बीमारी है। इसके लक्षण चिकनगुनिया से मिलते-जुलते हैं।

यह भी पढ़ें: मीठे रसगुल्लों का सच जानकर उड़ जाएंगे होश, सच्चाई जानने के लिए देखें वीडियो

ऐसे करें बचाव

- पार्क या पेड़-पौधों के पास जाने से पहले फुल स्‍लीव्‍स के कपड़े पहनें।

- तीन-चार दिन बाद भी बुखार नहीं उतरने पर डॉक्टर के पास जाएं।

- घर के अंदर और इसके आसपास के क्षेत्रों में कीटनाशक दवाएं छिडकें।

- आस-पास के क्षेत्र, घर और शरीर की साफ-सफाई का खास ध्यान दें।

- घर में चूहों को घुसने न दें।

ये हैं लक्षण

- सांस लेने में परेशानी महसूस हो
- पीलिया के लक्षण दिखने लगे
- उल्टी होना
- जोड़ों में दर्द की शिकायत
- तेज कंपकंपी के साथ बुखार
- गर्दन में दर्द की समस्‍या
- शरीर के जिस हिस्से पर कीड़ा काट लेता है, वहां लाल रंग का एक निशान पड़ जाता है

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर