स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राख में लोगों दिखी ऐसी चीज की गांव में मची सनसनी, पुलिस की टीमों ने उठाया ये कदम- देखें वीडियो

Nitin Sharma

Publish: Sep 22, 2019 17:59 PM | Updated: Sep 22, 2019 17:59 PM

Ghaziabad

Highlights

  • देर रात गोबर के बिटौरे में संदिग्ध परिस्थितियों में लगा दी गई थी आग
  • सुबह उसी की राख में लोगों मिला कंकाल
  • पुलिस और एफएसएल टीम ने कंकाल को कब्जे में लेकर शुरू की जांच

गाजियाबाद। दिल्ली से सटे गाजियाबाद के थाना कवि नगर इलाके में रविवार की सुबह अचानक उस वक्त सनसनी फैल गई । जब लोगों ने गांव रहीस पुर में एक जले हुए उपले के बिटौरे की राख में एक कंकाल को देखा। जैसे ही लोगों को इसकी सूचना मिली तो लोगों की भीड़ मौके पर जमा हो गई । और आनन-फानन में स्थानीय पुलिस को इसके बारे में सूचित किया गया। सूचना के आधार पर मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले की जांच शुरू करते हुए, कंकाल को एफएसएल टेस्टिंग के लिए भेजा है। अभी तक यह साफ नहीं हो पा रहा है कि आखिर यह कंकाल इंसान का है या किसी जानवर का है। बहरहाल पुलिस इस पूरे मामले में एक्सपर्ट की जांच के बाद ही कोई कार्रवाई कर पाएगी।

आप भी खा रहे हैं दवाई तो हो जाए सावधान, फायदे की जगह पहुंचा सकती हैं अस्पताल- देखें वीडियो

गांव के बाहर बने हुए गोबर के बिटौरे

मिली जानकारी के अनुसार, थाना कविनगर इलाके के गांव रहीस पूर्व में बाहर की तरफ स्थानीय ग्राम वासियों के द्वारा उपले के बिटौरे बनाये हुए हैं। इन्हीं में शनिवार एक एक बिटौरा संदिग्ध परिस्थितियों में जल गया। रविवार की सुबह जब लोग उस तरफ से निकल रहे थे । तो उसकी राख में लोगों को कुछ हड्डियां नजर आई। जिसे देखकर यह लग रहा था कि यह हड्डी इंसान की है। कुछ ही देर में यह खबर आग की तरह पूरे गांव में फैल गई। और लोगों की भीड़ मौके पर जुट गई। इसके साथ ही लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना के आधार पर मौके पर पहुंची पुलिस ने इस पूरे मामले की छानबीन शुरू कर दी। पुलिस ने राख से मिली सभी हड्डियों को एफएसएल जांच के लिए भेज दिया और पूरे मामले की जांच में जुट गई है।

क्षेत्राधिकारी आतिश कुमार ने बताया। कि थाना कवि नगर इलाके के गांव रहीस पुर में जले हुए बिटौरे के अंदर जो हड्डियां मिली है। शुरुआती जांच में पता चलता है कि किसी जानवर की भी हो सकती है। लेकिन यह पूरी तरह साफ नहींं है। इसलिए सभी हड्डियों को एकत्र कर एफएसएल जांच के लिए भेज दिया गया है । एक्सपर्ट की रिपोर्ट आने के बाद ही यह साफ हो पाएगा कि आखिर यह हड्डियां किसी जानवर की है या किसी इंसान की।