स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यूपी के इस शहर में 42 हजार मकानों को तोड़ने के आदेश, लोगों पर मंडराया बेघर होने का खतरा, जानें पूरा मामला

Ashutosh Pathak

Publish: Aug 17, 2019 09:12 AM | Updated: Aug 17, 2019 09:23 AM

Ghaziabad

  • गाजियाबाद में करीब 42000 मकानों पर चलेगा बुल्डोजर
  • खोड़ा कॉलोनी में 4 मंजिल से ऊपर बने मकान तोड़ने के आदेश
  • प्रशासनिक अधिकारी कर रहे हैं इमारतों का सर्वे

गाजियाबाद। गाजियाबाद से अब तक की बड़ी खबर सामने आई है, जहां करीब 42 हजार मकानों को तोड़ा जाएगा। ये कार्रवाई खोड़ा कॉलोनी इलाके में चार मंजिला मकान से ऊपर बने मकानों को लेकर किए जाने की खबर है। प्रशासनिक अधिकारियों का मानना है कि यह सभी मकान बगैर किसी तकनीकी और नक्शे के पास कराए गए हैं। इसलिए 4 मंजिल से ऊपर बने सभी मकानों को ध्वस्त किया जाएगा।

चार मंजिल से ऊपर की इमारतों पर कार्रवाई

प्रशासनिक अधिकारियों ने बतायाकि की पहले इसके लिए मकान मालिक को खुद तोड़े जाने का 15 दिन का समय दिया जाएगा। लेकिन अगर इतने दिन में मकान मालिक ने कोई कार्रवाई नहीं की तो उसे दंडित करते हुए चार मंजिल से ऊपर की इमारत को तोड़ दिया जाएगा। इसके लिए प्रशासनिक अधिकारियों ने अलग-अलग टीम बना दी है और सभी ऐसे मकानों को लगातार चिन्हित किया जा रहा है।

हाल ही में झुक गई थी इमारत

आपको बता दें कि खोड़ा कॉलोनी में एक पांच मंजिला इमारत एकाएक झुक गई थी। जिसमें पूरी तरह दरार आ गई थी। जिसके बाद से पूरे इलाके में हड़कंप मच गया और आनन-फानन में प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और पूरी इमारत को खाली कराया गया था। इस दौरान मकान मालिक और उसके समर्थकों ने सरकारी कार्य में बाधा डालते हुए विरोध प्रदर्शन किया। जिसके बाद उन्हें सरकारी कार्य में बाधा डालने के मामले में गिरफ्तार भी कर लिया गया। इस दौरान मकान के ऊपर की दो इमारतों को थोड़ा जा चुका है।

ghaziabad

कई इमारकतों पर हो चुकी है कार्रवाई

वहीं शुक्रवार को इस पूरे मामले की जानकारी के लिए एसडीएम आदित्य प्रजापति ने उस जगह का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि जो पांच मंजिला इमारत एकाएक झुक गई थी और इसके अंदर दरार आ गई थी, इस मकान में रहने वाले सभी लोगों को मकान खाली करने के लिए बोला गया था। उनके खाली करते ही ऊपर की दो मंजिल तुड़वा दी गई हैं। इसके बाद एक्सपर्ट इंजीनियरों की ओर से जानकारी ली जा रही है कि बाकी की इमारत किस स्थिति में है। हालांकि उन्होंने बताया कि अभी इस मकान की एक मंजिल और थोड़ी जानी है। जो कि चार-पांच दिन के अंदर तोड़ दी जाएगी। इसके अलावा उन्होंने बताया कि नगर पालिका की ओर से इस इलाके में निरीक्षण किया जा रहा है। जितने भी मकान 4 मंजिल से ऊपर बनाई गई हैं उन्हें तत्काल प्रभाव से तोड़ा जाएगा, क्योंकि यह सभी इमारत बगैर किसी तकनीकी और नक्शे के बनाए गए हैं।

कई मकानों को किया गया चिन्हित

उन्होंने बताया कि अभी तक की जानकारी के मुताबिक इस इलाके में करीब 42000 ऐसे मकान है। जो चार मंजिल से ऊपर बने हुए हैं। उन्होंने कहा कि इस पूरे इलाके का सर्वे करने के बाद 15 दिन के अंदर ही इसकी रिपोर्ट आ जाएगी और इस पर कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि इसके लिए मकान मालिक को भी समय दिया जाएगा। यदि वह खुद इस कार्रवाई को नहीं करता है तो प्रशासन ऐसे मकानों को ध्वस्त कर देगा।