स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अयोध्या फैसला आने के बाद कुमार विश्वास ने इकबाल अंसारी को लेकर कही बड़ी बात

Nitin Sharma

Publish: Nov 10, 2019 12:57 PM | Updated: Nov 10, 2019 12:57 PM

Ghaziabad

Highlights

  • कुमार विश्वास ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए जताई खुशी
  • मुस्लिम पक्ष के इकबाल अंसारी के लिए भी कही ये बात
  • फैसले को लेकर निरस्त कर दिया था अपना प्लान

 

गाजियाबाद। सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या (Ayodhya Verdict) मामले में फैसला सुनाए जाने के बाद जहां चारों तरफ खुशी का माहौल बना हुआ है। वहीं कवि कुमार विश्वास ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि जिस तरह से दोनों पक्षों की बात सुनकर (Supreme Court) सुप्रीम कोर्ट द्वारा फैसला सुनाया गया है। वह बेहद सराहनीय है और इसका सभी लोगों को स्वागत करना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने मुस्लिम पक्ष के इकबाल अंसारी की भी तारीफ की।

बिजली उपभोक्ताओं के लिए योगी सरकार लेकर आई ये बड़ी स्कीम, करोड़ों लोगों को होगा फायदा

अयोध्या भगवान राम की थी, उन्हीं की रहेगी

फैसला आने के बाद कवि कुमार विश्वास ने कहा कि इस फैसले से यह साफ हो गया है कि (Ayodhya) अयोध्या पहले भी भगवान राम की थी और आगे भी भगवान राम की ही रहेगी। जिस तरह से हिंदू समाज के लोगों में भगवान श्री राम के प्रति आस्था और विश्वास जुड़ा हुआ है। श्रीराम से पहले मर्यादा पुरुषोत्तम भी लिखा जाता है। ठीक इसी तरह से खासतौर से मुस्लिम वर्ग के बुद्धिजीवी लोगों को बढ़-चढ़कर इस फैसले का स्वागत करते हुए रेत ,ईट और रोड़ी देते हुए गंगा जमुनी तहजीब का परिचय देना चाहिए । उन्होंने कहा कि यदि मुस्लिम वर्ग के बुद्धिजीवी लोग इस तरह का योगदान मंदिर बनाने के लिए करते हैं। तो इसका दुनिया भर में एक अलग संदेश जाएगा।

बस स्टैंड पर इस हाल में मिला मॉर्निंग वॉक पर निकला ठेकेदार, मचा हड़कंप- देखें वीडियाे

इकबाल अंसारी की भी तारीफ की

कुमार विश्वास ने कहा कि मुस्लिम पक्ष के इकबाल अंसारी ने बेहद समझदारी का परिचय दिया है ।उन्होंने हमेशा ही इस मुद्दे को खत्म किए जाने की बात कही है। अब फैसला आने के बाद भी उन्होंने बेहद संतुलित बयान दिया है। जो की तारीफ के काबिल है । कुमार विश्वास ने कहा कि शनिवार को उन्हें खुद एक मुशायरे में लखनऊ जाना था, लेकिन फैसले के कारण उन्होंने लखनऊ जाना भी निरस्त कर दिया । अब जो फैसला सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिया गया है। उसको सभी धर्मों के लोगों को स्वीकार करते हुए आपसी भाईचारे का संदेश देना चाहिए।

[MORE_ADVERTISE1]