स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पुलिसकर्मियों ने सिपाही को दी 2.31 लाख रुपये की ईदी, मामला जानकर आप भी करेंगे सैल्‍यूट

sharad asthana

Publish: Jun 07, 2019 12:15 PM | Updated: Jun 07, 2019 12:15 PM

Ghaziabad

  • साहिबाबाद थाने में तैनात 213 पुलिसकर्मियों ने दी आर्थिक मदद
  • गाजियाबाद पुलिस ने अपने ट्व‍िटर अकाउंट पर पोस्‍ट की फोटो
  • लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान हरदोई में थी मंसूर की ड्यूटी

गाजियाबाद। जनपद के साहिबाबाद थाने के पुलिसकर्मियों ने ऐसा काम किया है, जिसे जानकर आप उनको सलाम करेंगे। ईद से पहले थाने में तैनात 213 पुलिसकर्मियों ने अपने साथी को 2.31 लाख रुपये दिए। ये रुपये सिपाही के लिए किसी ईदी से कम नहीं हैं। इसकी फोटो गाजियाबाद पुलिस ने अपने ट्व‍िटर अकाउंट पर पोस्‍ट की है। इसकी काफी सराहना हो रही है।

यह भी पढ़ें: दिल्‍ली की पहली महिला ऑटो चालक को लूट लिया ऑटो वालों ने, भाजपा सांसद ने अपनी सैलरी से दिए 30 हजार रुपये

परिवार में अकेला कमाने वाला

दरअसल, कांस्‍टेबल मंसूर तुलसी निकेतन चौकी पर तैनात हैं। उनके पिता मुरादाबाद के गांव उमरीकलां में किसान हैं। मंसूर के परिवार माता-पिता, पत्‍नी रन्नूम, ढाई साल की बेटी फातिमा, चार महीने की बेटी कातिजा व 6 अन्य भाई हैं। पूरे परिवार का जिम्‍मा उन पर ही है। लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान मंसूर की ड्यूटी हरदोई में थी। वहां अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई। उन्‍हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसके बाद मंसूर ने गाजियाबाद के एक अस्पताल में चेकअप कराया। इसमें उनको ब्लड कैंसर का पता चला।

यह भी पढ़ें: क्रिकेटर महेंंद्र सिंह धोनी के घर में चोरी करने वाले तीन गिरफ्तार, लाखों का माल बरामद

सर गंगाराम अस्पताल में हैं भर्ती

फिर उन्‍हें एमएमजी अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। उनकी हालत को देखते हुए यहां से उन्‍हें दिल्‍ली में एम्स रेफर कर दिया गया लेकिन वहां उनको बेड खाली नहीं मिला। इसके बाद वह 24 मई को दिल्‍ली के सर गंगाराम अस्पताल में भर्ती हो गए। वहां उनको करीब 22 लाख रुपये का खर्च बताया गया। मंसूर के पिता अब तक पौने 3 लाख रुपये इलाज के लिए दे चुके हैं।

यह भी पढ़ें: Patrika News @10AM: सलमान की फिल्म भारत का ऐसा चढ़ा खुमार, अचानक युव‍कों में चलने लगे लात-घूंसे, एक Click में जानिए अबतक की बड़ी खबरें

महकमे ने दिया साथ

ऐसे में मंसूर के सामने समस्‍या खड़ी हो गई। इस बुरे वक्‍त में उनके साथ पुलिस महकमा खड़ा हुआ। इसके बाद थाने में तैनात 213 पुलिसकर्मियों ने अपने सामर्थ्‍य अनुसार रुपये जमा किए। ऐसे करके उन्‍होंने 2 लाख 31 हजार रुपये जमा किए। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने ईद से पहले उनके पिता को 2.31 लाख रुपये दिए। गाजियाबाद पुलिस ने ट्वीट करते हुए लिखा है, थाना साहिबाबाद के समस्त पुलिस स्टाफ द्वारा सहयोग करके थाने पर तैनात कैंसर से पीड़ित आरक्षी मंसूर के परिजनों को 2,31000 रुपये की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की गई। इसके साथ ही उन्‍होंने मंसूर जल्‍द स्‍वस्‍थ होने की कामना भी की। सीओ साहिबाबाद डॉ. राकेश मिश्रा का कहना है क‍ि पुलिस विभाग आगे भी उनकी सहायता करता रहेगा।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर