स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मंदिर में भाजपा नेता व पुलिसकर्मी के सामने भिड़ गए दो जाति के हजारों लोग, मचा हड़कंप

Virendra Kumar Sharma

Publish: Sep 16, 2019 17:48 PM | Updated: Sep 16, 2019 17:48 PM

Ghaziabad

Highlights

. थाना मसूरी के देवी मंदिर की घटना
. कई दिनोंं से अच्छेजा और बम्हैटा गांव के लोगों के बीच चला रहा विवाद
. समझौता करने को इक्टठा हुए थे दो पक्ष

 

गाजियाबाद. थाना मसूरी के एक देवी मंदिर में दो जातियों के लोगों के बीच में पंचायत हुई। इस दौरान दोनों पक्ष आपस में भिड़ गए। भारी संख्या में पहुंची पुलिस ने मामले को शांत कराया। आरोप है कि पुलिस की मौजूदगी में भी पथराव हुआ। बाद पुलिसकर्मियों को बल प्रयोग भी करना पड़ा। डासना थानों में आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

कुछ दिनों पहले थाना सिहानी गेट एरिया में यादव और गुर्जर जाति के दो लोगों में पार्किंग को लेकर विवाद हो गया था। जिसके बाद दोनों पक्षों में जमकर मारपीट भी हुई थी। उसके बाद सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ। वीडियो वायरल होने पर मामले ने एक बार फिर से तूल पकड़ लिया। दरसअल, इनमें एक पक्ष बम्हैटा गांव का रहने वाला है, जबकि दूसरा अच्छेजा का। इसी झगड़े को सुलझाने के लिए डासना स्थित देवी मंदिर में भाजपा नेेता यतेंद्र नागर, महंत नरसिंहानंद और अनिल यादव ने दोनों पक्षों के लोगों को रविवार को बुलाकर समझौता कराने का प्रयास किया। लेकिन इस दौरान दोनों ही पक्ष के लोग अधिक संख्या में मौके पर पहुंच गए।

जिसको लेकर एक बार फिर से हंगामा हो गया। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर हंगामा कर रहे लोगों को शांत करने का प्रयास किया। लेकिन कुछ लोगों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। इस दौरान कोई चोटिल तो नहीं हुआ। लेकिन पुलिस ने भी बल प्रयोग करते हुए हंगामा करने वाले सभी लोगों को मौके से खदेड़ दिया। इसकी जानकारी मिलते ही पुलिस के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और मामले को शांत कराया।

मसूरी थाना प्रभारी नरेश कुमार सिंह ने बताया कि दोनों पक्ष समझौता करने लिए देवी मंदिर परिसर में पहुंचे थे। हालांकि समझौते के लिए दोनों पक्षों की तरफ से 10-10 लोगों को बुलाया गया था। लेकिन दोनों ही पक्ष के अधिक संख्या में लोग मौके पर पहुंच गए। जिसके बाद आपस में गाली-गलौच हुई और झगड़ा बढ़ गया। उन्होंने बताया कि इस दौरान कुछ लोगों के द्वारा पथराव भी किया गया। सड़क पर जाने वाली गाड़ियों में भी पत्थर लगे। इस मामले में 100 से अधिक अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।