स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

उत्तर प्रदेश में फैला इस जानलेवा बीमारी का प्रकोप, सरकार ने जारी की चेतावनी

Nitin Sharma

Publish: Sep 15, 2019 14:21 PM | Updated: Sep 15, 2019 14:21 PM

Ghaziabad

Highlights

  • इस महानगर में मिले 12 मरीज तो प्रशासन में मचा हड़कंप
  • डेंगू पॉजिटिव लक्षण मिलने पर शुरू हुआ मरीजों का उपचार
  • सरकारी अस्पताल में बढ़ाई गई व्यवस्था

गाजियाबाद। मौसम के करवट बदलते ही डेंगू ने भी अपने पांव पसारने शुरू कर दिए हैं। यही वजह है कि दिल्ली से सटे गाजियाबाद में अब तक 12 मरीजों के अंदर डेंगू के पॉजिटिव लक्षण पाए गए हैं। जिनका उपचार चल रहा है। उधर प्रशासन द्वारा भी इसे पूरी तरह गंभीरता से लिया जा रहा है। जिसके चलते जिला अस्पताल में 10 बेड अतिरिक्त रखे गए हैं। ताकि किसी मरीज को किसी तरह की कोई परेशानी ना हो। इसके अलावा गाजियाबाद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने जनपद के सभी बड़े अस्पतालों को भी साफ तौर पर निर्देश दिए हैं कि वह इमरजेंसी के लिए अपने अस्पताल में 10 बेड अतिरक्त रखे। इसके अलावा छोटे अस्पतालों को भी 5 बेड अतिरिक्त रखने के आदेश दिए है।

इस पूर्व सांसद ने मांगी धरने की परमिशन तो प्रशासन से मिला यह जवाब

इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए गाजियाबाद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी एनके गुप्ता ने बताया कि गाजियाबाद में अब तक 12 मरीजों के अंदर डेंगू के लक्षण पाए गए हैं। जिनका उपचार जारी है और एक टीम जगह-जगह जाकर जांच कर रही है । और लोगों को सचेत भी किया जा रहा है कि आप सभी अपने आसपास साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। कहीं भी पानी जमा न होने दें घर के गमलों और कूलर में पानी इक_ा ना रहने दे। तमाम जानकारियों के साथ लोगों को सचेत भी किया जा रहा है।

इस नामी फैक्ट्री के अंदर तैयार किया जा रहा था ऐसा डीजल, पुलिस के छापा मारने पर हुआ खुलासा- देखें वीडियो

जिला अस्पतालों में लगवाये गये अतिरिक्त बेड

एन के गुप्ता ने बताया कि एहतियात के तौर पर मॉस्किटो मैथ से लैस जिला अस्पताल में 10 अतिरिक्त बेड लगाए गये हैं। इसके अलावा सभी बड़े अस्पतालों को भी निर्देश दिया गया है कि वह अपने यहां पर 10-10 बेड अतिरिक्त रखें। और छोटे अस्पताल 5-5 बेड अतिरिक्त आरक्षित रखें ।ताकि आवश्यकता पडऩे पर डेंगू से पीडि़त मरीज का उपचार आसानी से किया जा सकें। उन्होंने बताया कि जो भी मरीज अभी तक डेंगू से पीडि़त पाए गए हैं। उनके उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में दवा और स्टाफ मौजूद है और इस मामले गंभीरता से लिया जा रहा है।