स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Swami Vivekanad Birthday Special: भारत भ्रमण के दौरान सात दिनों तक यहां रुके स्वामी विवेकानंद, देखें वीडियो

arun rawat

Publish: Jan 12, 2020 11:12 AM | Updated: Jan 12, 2020 11:12 AM

Firozabad

— टूंडला फिरोजाबाद के गांव बन्ना आश्रम पर स्वामी ने रुक लोगों को दिया एकता और अखंडता का संदेश।
— धीरपुरा और अवागढ़ के राजा से की थी मुलाकात, जहां से गुजरे वहीं बना विवेकानंद चौक।

फिरोजाबाद। आज पूरे भारत वर्ष में स्वामी विवेकानंद की जयंती बड़ी ही धूमधाम के साथ मनाई जा रही है। स्वामी विवेकानंद के जीवन से जुड़ी कुछ रोचक बातों को आज हम आपके सामने रखने जा रहे हैं। भारत भ्रमण के दौरान स्वामी विवेकानंद फिरोजाबाद की तहसील टूंडला के गांव बन्ना आश्रम पर आए। वह जिस रास्ते से गुजरे वहीं स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा स्थापित की गई है।

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]

यह है पूरी कहानी
समाजसेवी डॉ. चेतन बिहारी सक्सेना ने बताया कि नौ जुलाई 1888 में भारत भ्रमण के दौरान स्वामी विवेकानंद बन्ना गांव के प्राचीन आश्रम पर आए थे। वह यहां सात दिनों तक रुके। 11 जुलाई को रामाश्रम के पंडित मिहीलाल के पिता पंडित कीरतराम के आग्रह पर व चुल्हावली गांव गए थे। जहां पंडित कीरतराम के पिता पंडित नेकराम ने उनका रुद्राभिषेक किया था। 13 जुलाई को अवागढ़ और धीरपुरा के राजा स्वामी के दर्शन को बन्ना आश्रम पर आए थे। अवागढ़ के राजा ने उन्हें महल में चलने का निमंत्रण भी दिया था।

17 जुलाई को चले गए आगरा
17 जुलाई को अपने शिष्य स्वामी विश्वरूपानंद को साथ लेकर टूंडला से पैदल आगरा के बल्केश्वर मंदिर के लिए रवाना हो गए थे। जहां उन्होंने रात्रि विश्राम भी किया था। 18 जुलाई को ताजमहल, लालकिला का भ्रमण करते हुए वह मनकामेश्वर मंदिर पहुंचे। वहां के महंत ने उनके चरणों की छाप ली। उसके पश्चात वह पृथ्वीनाथ मंदिर के दर्शन करते हुए कैलाश मंदिर पहुंचे। वहां रात्रि विश्राम किया। 19 जुलाई को वह आगरा से वृंदावन के लिए निकल गए।

[MORE_ADVERTISE3]